NDTV Khabar

पनामा मामला: नवाज शरीफ के दामाद गिरफ्तार, पत्नी मरियम संग जमानत मिली

पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के दामाद को पाकिस्तान पहुंचते ही राष्ट्रीय जवाबदेही ब्यूरो (एनएबी) ने गिरफ्तार कर लिया. हालांकि बाद में पत्नी मरियम के साथ उन्हें जमानत मिल गई.

168 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
पनामा मामला: नवाज शरीफ के दामाद गिरफ्तार, पत्नी मरियम संग जमानत मिली

पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की बेटी मरियम. (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. सोमवार को पाकिस्तान पहुंचने पर एनएबी ने किया था गिरफ्तार
  2. मरियम ने अपने ऊपर लगे आरोपों को झूठा बताया
  3. लंदन की संपत्तियों से संबंधित मामले की हो रही है सुनवाई
इस्लामाबाद: पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के दामाद को पाकिस्तान पहुंचते ही राष्ट्रीय जवाबदेही ब्यूरो (एनएबी) ने गिरफ्तार कर लिया. हालांकि बाद में पत्नी मरियम के साथ उन्हें जमानत मिल गई. डॉन न्यूज के मुताबिक लंदन में शरीफ परिवार के स्वामित्व वाली संपत्तियों से संबंधित मामले में सोमवार को लंदन से पाकिस्तान पहुंचते ही मरियम के पति कैप्टन मुहम्मद सफदर (सेवानिवृत्त) को गिरफ्तार कर लिया गया, हालांकि बाद में उन्हें जमानत दे दी गई.

यह भी पढ़ें : नवाज शरीफ के परिवार ने 'अयोग्य ठहराने' के फैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी   

टिप्पणियां
अदालत में पेश होने के बाद मीडियाकर्मियों से बातचीत में मरियम ने कहा कि पहले से ही सजा मिलने (नवाज शरीफ को अयोग्य ठहराए जाने) के बावजूद उनके परिवार पर मामला चलाया जा रहा है. मरियम ने कहा, 'ये सुनवाइयां फैसले के दिन तक चलेंगी, जब तक कि कुछ उभरकर सामने नहीं आता. जिसमें वह (नवाज शरीफ) या उनके परिवार का कोई सदस्य पकड़ा जाए. मरियम ने कहा कि संयुक्त जांच टीम द्वारा उनके पारिवारिक व्यवसाय के संबंध में जो सवाल उठाए गए हैं, वे हमेशा सवाल ही बने रहेंगे क्योंकि ये झूठे आरोप हैं. जिनका कोई जवाब नहीं है.

VIDEO: हम लोग : क्या नवाज शरीफ का राजनैतिक करियर खत्म?

पाकिस्तान का कानून लंदन में काम नहीं करता
यह पूछे जाने पर कि उनके भाई हसन और हुसैन नवाज अदालत में कब पेश होंगे? उन्होंने कहा कि वे अपना फैसला खुद लेंगे और वे विदेश में रहते हैं. इसलिए पाकिस्तान का कानून उन पर लागू नहीं होता. 'डॉन न्यूज' के मुताबिक, अदालत में नवाज शरीफ द्वारा दायर एक आवेदन पर भी सुनवाई हुई, जिसमें अदालत में उपस्थित होने से स्थायी छूट की मांग की गई थी, क्योंकि वह अपनी बीमार पत्नी कुलसुम नवाज की देखरेख के लिए लंदन चले गए हैं. जवाबदेही अदालत के न्यायाधीश मोहम्मद बशीर ने पूर्व प्रधानमंत्री के आवेदन पर फिलहाल अपना फैसला सुरक्षित रख लिया है.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement