NDTV Khabar

अंटार्कटिका से टूटकर अलग हुआ एक खरब टन का आइसबर्ग

लार्सन सी बर्फ की चट्टान से 5800 वर्ग किलोमीटर का हिस्सा अलग हो जाने से इसका आकार 12 फीसदी से ज्यादा घट गया है.

689 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
अंटार्कटिका से टूटकर अलग हुआ एक खरब टन का आइसबर्ग

इस आइसबर्ग को ए68 नाम दिए जाने की संभावना है

खास बातें

  1. लार्सन सी बर्फ की चट्टान से 5800 वर्ग किलोमीटर का हिस्सा अलग हुआ
  2. यह घटना 10 जुलाई से लेकर 12 जुलाई के बीच किसी समय हुई
  3. यह दक्षिणी ध्रुव के आसपास जहाजों के लिए गंभीर खतरा बन सकता है
लंदन:

वैज्ञानिकों ने बुधवार को कहा कि करीब एक खरब टन का हिमशैल (आइसबर्ग) कई महीनों के पूर्वानुमान के बाद अंटार्कटिका से टूटकर अलग हो गया है. यह आइसबर्ग अब तक के दर्ज आंकड़ों में सबसे बड़ा है. अब यह दक्षिणी ध्रुव के आसपास जहाजों के लिए गंभीर खतरा बन सकता है.

लार्सन सी बर्फ की चट्टान से 5800 वर्ग किलोमीटर का हिस्सा अलग हो जाने से इसका आकार 12 फीसदी से ज्यादा घट गया है और अंटार्कटिक प्रायद्वीप का परिदृश्य हमेशा के लिए बदल गया है.

अंटार्कटिका से हमेशा हिमशैल अलग होते रहते हैं, लेकिन यह क्योंकि खास तौर पर बड़ा है, ऐसे में महासागर में जाने के इसके रास्ते पर निगरानी की जरूरत है. यह नौवहन यातायात के लिये मुश्किलें पैदा कर सकता है.

टिप्पणियां

सालों से पश्चिमी अंटार्कटिक हिम चट्टान में बढ़ती दरार को देख रहे शोधकर्ताओं ने कहा कि यह घटना 10 जुलाई से लेकर 12 जुलाई के बीच किसी समय हुई है. इस हिमशैल को ए68 नाम दिए जाने की संभावना है और यह एक खरब टन से ज्यादा वजनी है. इसका विस्तार सबसे बड़ी लहरों में से एक लेक इरी के विस्तार से दोगुना है.


(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान प्रत्येक संसदीय सीट से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरों, LIVE अपडेट तथा चुनाव कार्यक्रम के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement