इस शहर की वायु गुणवत्ता हुई "दुनिया में सबसे खराब", लोगों को चेतावनी जारी

मेलबर्न सिडनी के बाद दूसरा सबसे बड़ा शहर है और यहां की आबादी करीब 42 लाख है.

इस शहर की वायु गुणवत्ता हुई

मेलबर्न की वायु गुणवत्ता ''दुनिया में सबसे खराब'' हुई, अधिकारियों ने स्वास्थ्य चेतावनी जारी की

मेलबर्न:

ऑस्ट्रेलिया में जंगलों में लगी भीषण आग से निकलने वाले धुएं के कारण देश के दूसरे सबसे बड़े नगर मेलबर्न में मंगलवार (14 जनवरी) को वायु गुणवत्ता "दुनिया में सबसे खराब" हो गई. अधिकारियों ने लोगों को चेतावनी जारी करते हुए सलाह दी है कि वे घरों में ही रहें और एहतियाती उपाय करें.

ऑस्ट्रेलिया में लगी आग को इतिहास में सबसे भीषण माना जा रहा है और आग के कारण अब तक कम से कम 26 लोगों की मौत हो चुकी है. इसके अलावा करीब एक करोड़ हेक्टेयर भूमि जल गई, 2,000 से अधिक घर नष्ट हो गए और कई प्रजातियां विलुप्त होने के कगार पर पहुंच गयी हैं.

इस बीच, मौसम विज्ञान ब्यूरो ने अपने पूर्वानुमान में इस सप्ताह बारिश होने की बात की है जिससे आग से प्रभावित क्षेत्रों और अग्निशमन कर्मियों को कुछ राहत मिली है.

ऑस्ट्रेलियाई ब्रॉडकास्टिंग कॉरपोरेशन (एबीसी) की रिपोर्ट के अनुसार देश के पूर्वी तट पर एक बड़े क्षेत्र में वर्षा होने की उम्मीद है. मंगलवार से सप्ताहांत तक बारिश होने की संभावना है.

मेलबर्न सिडनी के बाद दूसरा सबसे बड़ा शहर है और यहां की आबादी करीब 42 लाख है.

विक्टोरिया के मुख्य स्वास्थ्य अधिकारी ब्रेट सटन ने कहा कि कल रात से मेलबर्न दुनिया में सबसे खराब स्थिति में पहुंच गया.
उन्होंने कहा कि तापमान बढ़ने से वायु की गुणवत्ता खराब हो गई है.

उन्होंने चेतावनी दी कि खराब वायु गुणवत्ता के कारण लोगों की तबियत खराब हो सकती है. उन्होंने 65 साल से ज्यादा और 15 साल से कम आयु के लोगों के साथ ही गर्भवती महिलाओं और फेफड़े, हृदय रोगी या मधुमेह से पीड़ित लोगों से कहा कि वे घर के अंदर रहें और शारीरिक गतिविधियां सीमित कर धुएं के संपर्क में आने से बचें.

एबीसी की रिपोर्ट के अनुसार कई स्विमिंग पूल बंद कर दिए गए हैं और घुड़दौड़ आदि भी रद्द कर दिए गए हैं.
ऑस्ट्रेलियाई ओपन के आयोजकों ने मंगलवार सुबह क्वालीफाइंग मैचों और खिलाड़ियों के अभ्यास सत्रों को रद्द कर दिया.

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com