झोंपड़ी में दम घुटने से मां-बेटों की मौत, माहवारी के चलते घर से किया गया था बाहर

मां ने अपने बेटों को ठंड से बचाने के लिए झोपड़ी में आग जलाई. झोपड़ी में खिड़की ना होने की वजह से धुएं में दम घुट गया. महिला को माहवारी के चलते घर से बाहर सोना पड़ा था.

झोंपड़ी में दम घुटने से मां-बेटों की मौत, माहवारी के चलते घर से किया गया था बाहर

माहवारी ने ले ली मां और उसके बेटों की जान

नई दिल्ली:

नेपाल की एक महिला को सिर्फ इसलिए घर से बाहर झोपड़ी में सोना पड़ा, क्योंकि उसे माहवारी हो रही थी. वजह थी इन दिनों महिलाओं को अछूत मानना. 35 साल की ये महिला इस ठंड में अपने दो बेटों के साथ बाहर सोई. अपने बच्चों को ठंड से बचाने के लिए उसने आग जलाई. लेकिन रात होते-होते आग के धुएं से दम घुटने के कारण ना सिर्फ उस महिला की बल्कि उसके दोनों बेटों की भी मौत हो गई.

काठमांडू पोस्ट की खबर के मुताबिक, यह घटना नेपाल के बाजुरा जिले की है जहां माहवारी के चलते अंबा बोहोरा नाम की महिला की मौत हुई. अंबा महावारी के चौथे दिन 8 जनवरी रात को अपने नौ और बारह साल के बेटों के साथ भोजन करने के बाद झोंपड़ी में सोने चली गई. झोंपड़ी को गर्म रखने के लिए उसमें आग जल रही थी.

सैनिटरी नैपकिन और टैम्पॉन आपको कर सकते हैं बीमार, इस्तेमाल करने से पहले पढ़ें ये TIPS

झोंपड़ी में ना तो खिड़की थी और ही हवा आर-पार होने की कोई अन्य व्यवस्था थी. अगली सुबह जब अंबा की सास ने झोंपड़ी का दरवाजा खोला तो उसे तीनों मृत मिले. सभी की आग लगने के कारण दम घुटने से मौत हो गई थी. खबर में एक गांववाले के हवाले से कहा गया, "जब वे सो रहे थे तो उनके कंबल में आग लग गई थी जिसके बाद धुएं के कारण दम घुटने से मां और बच्चों की मौत हुई हो गई."

आम सैनिटरी नैपकिन नहीं आपकी सेहत के लिए बेस्‍ट हैं बायोडिग्रेडेबल पैड, जानिए कैसे?

मुख्य जिला अधिकारी चेतराज बराल ने बताया कि शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है. मामले की जांच के लिए जिला पुलिस प्रमुख समेत एक दल घटनास्थल पर भेजा गया है. नेपाल में कई समुदाय परंपरा के नाम पर माहवारी वाली महिलाओं को अपवित्र मानते हैं और उन्हें महीने में एक बार माहवारी के समय परिवार से दूर झोंपड़ियों में रहने के लिए मजबूर किया जाता हैं. इस प्रथा पर प्रतिबंध लगाए जाने के बावजूद अब भी यह चलन में है.

प्रेग्‍नेंसी के दौरान सेक्‍स: जानिए क्‍या है सच्‍चाई और क्‍या है झूठ?

इनपुट- भाषा

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

VIDEO: इररेगुलर पीरियड्स को न करें नजरअंदाज