NDTV Khabar

नवाज शरीफ के पद से हटने में सेना की कोई भूमिका नहीं : पाक सेना प्रमुख कमर जावेद बाजवा

जनरल बाजवा ने पनामा पेपर मामले में सेना की कथित भूमिका संबंधी सभी अफवाहों को ‘बेबुनियाद’ बताते हुए इसे खारिज किया और कहा कि वह लोकतंत्र के बड़े समर्थक हैं.

2 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
नवाज शरीफ के पद से हटने में सेना की कोई भूमिका नहीं : पाक सेना प्रमुख कमर जावेद बाजवा

पाकिस्तानी सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा

खास बातें

  1. नवाज शरीफ के अपदस्थ होने के पीछे सेना का हाथ नहीं
  2. हम लोकतंत्र के बड़े समर्थक : सेना प्रमुख
  3. संसद की सर्वोच्चता में यकीन करते हैं
इस्लामाबाद: पाकिस्तान के सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा ने पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के अपदस्थ होने के पीछे सेना का हाथ होने की अफवाहों को ‘बेबुनियाद’ बताते हुए उन्हें खारिज कर दिया और कहा कि सेना की इसमें कोई भूमिका नहीं है. पनामा पेपर्स कांड में देश की सुप्रीम कोर्ट द्वारा 28 जुलाई को अयोग्य ठहराये जाने के बाद 67 वर्षीय शरीफ ने प्रधानमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था. अदालत ने आदेश दिया था कि अब इस संबंध में शरीफ और उनके बच्चों के खिलाफ भ्रष्टाचार का मुकदमा चलाया जाए.

पाकिस्तान सेना प्रमुख ने आधी रात को वाघा सीमा पर फहराया 80 फीट का झंडा

जनरल बाजवा ने नेशनल असेंबली और सीनेट की रक्षा समितियों के सदस्यों के प्रश्नों का उतर देते हुए यह बयान दिया. ये सभी जनरल मुख्यालय (जीएचक्यू) के दौरे पर पहुंचे थे. समाचार पत्र ‘डान’ की खबर के अनुसार- सांसदों ने सुरक्षा अभियानों, सैन्य अदालतों, रक्षा बजट, अमेरिका के साथ समझौते, भारत के साथ विवाद, अफगानिस्तान के साथ संबंधों में समस्या और नागरिक-सैन्य संबंधों सहित कई ऐसे मुद्दे उठाए जिनपर कई बार चर्चा की गई है.

आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में पाकिस्तान दोराहे पर, फैसला करना होगा : सेना प्रमुख कमर जावेद बाजवा

समाचार पत्र ने कहा कि जनरल बाजवा ने पनामा पेपर मामले में सेना की कथित भूमिका संबंधी सभी अफवाहों को ‘बेबुनियाद’ बताते हुए इसे खारिज किया और सांसदों से कहा कि वह लोकतंत्र के बड़े समर्थक हैं और संसद की सर्वोच्चता में विश्वास करते हैं.
समाचार पत्र के अनुसार, सेना प्रमुख के हवाले से एक सांसद ने कहा पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ को अपदस्थ करने में सेना की कोई भूमिका नहीं है और उनके लिए, मौजूदा प्रधानमंत्री भी पिछले वाले जितने ही अच्छे हैं. 70 वर्ष पहले आजाद हुए देश पर शक्तिशाली सेना ने अधिकतर समय राज किया है. ऐसा माना जाता है कि पाकिस्तान के रणनीतिक निणर्यों में इसका काफी प्रभाव रहता है.

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement