NDTV Khabar

इस पूरे शहर में रहती है सिर्फ एक महिला, हर महीने भरती है 35 हज़ार रुपये का TAX, जानिए वजह

धीरे-धीरे ये शहर खाली होता गया. घटती आबादी के चलते यहां के ग्रॉसरी स्टोर्स, पोस्ट ऑफिस और स्कूल बंद हो गए. एल्सी के दोनों बच्चे भी काम करने शहर से बाहर चले गए. साल 2004 तक आते-आते इस शहर में सिर्फ एल्सी और उनके पति रूडी रह गए.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
इस पूरे शहर में रहती है सिर्फ एक महिला, हर महीने भरती है 35 हज़ार रुपये का TAX, जानिए वजह
नई दिल्ली:

क्या आप यकीन कर सकते हैं कि किसी शहर में सिर्फ एक ही शख्स रहता हो! जी हां, पूरे शहर में सिर्फ एक आदमी रहने वाली यह बात सच है. इस पृथ्वी पर ऐसा शहर भी है जहां कि कुछ जनसंख्या सिर्फ 1 है, और उस एकलौते शख्स की उम्र भी 84 साल है. 

इस शख्स का नाम है एल्सी एलर (Elsie Eiler) और इस शहर का नाम है यूएस का मोनोवी, नेब्रास्का (Monowi, Nebraska). ये अमेरिका की सबसे कम आबादी वाले शहरों में आता है. 

fk6blrv8

एल्सी इस शहर का रख-रखाव भी खुद करती हैं

एल्सी एलर नहीं चाहती कि ये शहर भूतिया शहर के नाम से जाना जाए, इसलिए वो यहीं अकेली रहती हैं. वो शहर का पानी और बिजली का 500 डॉलर टैक्स (लगभग 35 हज़ार रुपये) भी भरती हैं. 

दुनिया के सबसे बड़े देश में है सिर्फ 1 ATM, फिर भी लोगों को कोई दिक्कत नहीं, मज़े से निकालते हैं पैसे


यहां तक एल्सी इस शहर का रख-रखाव भी खुद करती हैं. सरकार की तरफ से पब्लिक जगहों की देख-रेख के लिए मिलने वाली राशि को कहां और कैसे खर्च करना है, वह भी एल्सी ही तय करती हैं. क्योंकि इस शहर की वह एकलौती नागरिक होने के नाते वही मेयर हैं, क्लर्क भी और ऑफिसर भी. 

ऐसा नहीं है एल्सी के अलावा इस शहर में कोई आया ही ना हो, बल्कि 1930 में नेब्रास्का की आबादी 150 थी. इन 150 लोगों के लिए यहां तीन ग्रॉसरी स्टोर्स, कई रेस्टोरेंट्स, पोस्ट ऑफिस और जेल भी थीं. शहर के पास ही रेल सुविधा भी थी. 

7h6d883

एल्सी के अब एक सराय चलाती हैं, जिसमें मोनोवी में आने वाले टूरिस्ट्स को पानी, चाय और स्नैक्स की सुविधा मिलती है.

एल्सी इसी शहर में पैदा हुईं, बड़ी हुईं, 19 साल की उम्र में अपने स्कूल के दोस्त से शादी भी की. स्कूल से निकलने के बाद उन्होंने यूएस एयर फोर्स भी ज्वॉइन की. 

धीरे-धीरे ये शहर खाली होता गया. घटती आबादी के चलते यहां के ग्रॉसरी स्टोर्स, पोस्ट ऑफिस और स्कूल बंद हो गए. एल्सी के दोनों बच्चे भी काम करने शहर से बाहर चले गए. साल 2004 तक आते-आते इस शहर में सिर्फ एल्सी और उनके पति रूडी रह गए. लेकिन 2004 में पति की मौत के अब एल्सी अकेली इस शहर में रहती हैं. 

एल्सी के अब एक सराय चलाती हैं, जिसमें मोनोवी में आने वाले टूरिस्ट्स को पानी, चाय और स्नैक्स की सुविधा देती हैं. एल्सी के सात पोते-पोतियां हैं, लेकिन वो आज भी इसी शहर में रहना पसंद करती हैं.  

टिप्पणियां

VIDEO: अमेरिका में भारतीय छात्र की गोली मारकर हत्या



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement