मुम्बई हमले के गवाहों तक पहुंच चाहता है पाक

खास बातें

  • पाक की जांच एजेंसी ने हमले के हमलावर कसाब द्वारा साझा किए गए सूचना के संबंध में गवाही के लिए 16 भारतीय नागरिकों की पहचान की है।
इस्लामाबाद:

पाकिस्तान वर्ष 2008 में मुम्बई में हुए आतंकवादी हमले के गवाहों के बयान दर्ज करने के लिए उन तक पहुंच बनाने की कोशिश करेगा तथा इसके लिए वह भारत से औपचारिक अनुरोध करेगा। पाकिस्तान से प्रकाशित समाचार पत्र द एक्सप्रेस ट्रिब्यून में गृह मंत्रालय के अधिकारियों के हवाले से प्रकाशित रिपोर्ट के अनुसार यह दूसरी बार है जब पाकिस्तान ऐसा अनुरोध करेगा। पाकिस्तान की संघीय जांच एजेंसी ने मुम्बई हमले के एकमात्र जीवित हमलावर अजमल आमिर कसाब द्वारा साझा किये गए सूचना के संबंध में गवाही के लिए 16 भारतीय नागरिकों की पहचान की है। कसाब को भारत की अदालत ने मौत की सजा सुनायी है। अधिकारियों ने कहा गवाही की अनुमति मिलते ही संघीय जांच एजेंसी की दो सदस्यीय दल भारत जाएगा। यह दल मुम्बई स्थित पुलिस थानों के अधिकारियों से पोस्टमार्टम रिपोर्ट से संबंधित मुद्दों पर चर्चा करेगा। दल इसके साथ ही एजेंसी की तरफ से रावलपिंडी की आतंकवाद निरोधी अदालत नम्बर दो में कसाब का मुकदमा लड़ रहे कानूनी विशेषज्ञों से भी सलाह मशविरा करेगा। इस बीच संघीय जांच एजंेसी ने गृह मंत्रालय को सूचित किया है कि पाकिस्तानी दल को भारतीय जांचकर्ताओं के रिकार्ड दर्ज करने के लिए भारत द्वारा अनुमति नहीं देने से यह जांच आगे नहीं बढ़ रही है। उल्लेखनीय है कि पाकिस्तान के गृह मंत्री रहमान मलिक ने पिछले वर्ष विदेश मंत्री पी चिदम्बरम से गवाहों और महत्वपूर्ण व्यक्तियों की गवाही रिकार्ड करने के लिए संघीय जांच एजेंसी के दल को भारत यात्रा की अनुमति प्रदान करने का आग्रह किया था। इनमें कसाब का इकबालिया बयान दर्ज करने वाले मजिस्ट्रेट और मुम्बई आतंकवादी हमले की जांच करने वाले पुलिस अधिकारी की गवाही शामिल है।

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com