NDTV Khabar

पाकिस्तान : कुलसुम के अंतिम संस्कार में शामिल होने के लिए नवाज शरीफ, उनकी पुत्री व दामाद को मिलेगा पैरोल

जेल में बंद पूर्व पाकिस्तानी प्रधानमंत्री नवाज शरीफ, उनकी बेटी मरियम और दामाद कैप्टन (सेवानिवृत्त) मोहम्मद सफदर को बेगम कुलसुम के अंतिम संस्कार में शामिल होने के लिए एक दिन के पैरोल पर रिहा किया जाएगा.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
पाकिस्तान : कुलसुम के अंतिम संस्कार में शामिल होने के लिए नवाज शरीफ, उनकी पुत्री व दामाद को मिलेगा पैरोल

पाकिस्तान के पूर्व पीएम नवाज शरीफ (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. पत्नी के अंतिम संस्कार में शामिल होने के लिए शरीफ को मिलेगा पैरोल
  2. उनकी पुत्री व दामाद को भी मिलेगा पैरोल
  3. भ्रष्टाचार के मामले में जेल की सजा काट रहे हैं शरीफ
लाहौर: जेल में बंद पूर्व पाकिस्तानी प्रधानमंत्री नवाज शरीफ, उनकी बेटी मरियम और दामाद कैप्टन (सेवानिवृत्त) मोहम्मद सफदर को बेगम कुलसुम के अंतिम संस्कार में शामिल होने के लिए एक दिन के पैरोल पर रिहा किया जाएगा.सूत्रों ने मंगलवार को यह जानकारी दी. शरीफ की पत्नी कुलसुम का 68 साल की उम्र में मंगलवार को लंदन में निधन हो गया. वह कैंसर से पीड़ित थीं. उनका पार्थिव शरीर यहां लाया जाएगा और शरीफ परिवार के निवास जाटी उमरा लाहौर में दफनाया जाएगा. सूत्रों ने बताया कि शरीफ, मरियम और सफदर को अंतिम संस्कार में शामिल होने के लिए पैरोल पर रिहा किया जा रहा है.    

यह भी पढ़ें: भ्रष्टाचार के आरोप में जेल में बंद पाकिस्तान के पूर्व PM नवाज शरीफ की पत्नी का लंदन में निधन

टिप्पणियां
उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री इमरान खान ने कुलसुम के पार्थिव शरीर को वापस लाने और अन्य मामलों में शरीफ परिवार को सहूलियतें मुहैया करने का आदेश दिया .उन्होंने कहा कि सरकार पिता और पुत्री को एक दिन के लिए रिहा कर सकती है. शरीफ परिवार ने कम से कम तीन दिनों के लिए पैरोल की मांग की है. पैरोल की मंजूरी के लिए अनुरोध जरूरी है. पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज की प्रवक्ता मरियम औरंगजेब ने पीटीआई से कहा कि पार्टी अध्यक्ष शहबाज शरीफ अपने बड़े भाई नवाज शरीफ और भतीजी मरियम से मिलने अदियाला जेल गए ताकि कुलसुम को दफनाए जाने के बारे में निर्देश ले सकें. 

VIDEO: बातचीत से कश्मीर का मसला हल करें : इमरान खान 
उन्होंने कहा कि पार्थिव शरीर को लाहौर लाने के लिए शहबाज लंदन रवाना होंगे. यह पूछे जाने पर कि क्या उनके दोनों पुत्र हसन और हुसैन अंतिम संस्कार में भाग लेने के लिए लाहौर आएंगे, उन्होंने कहा कि इस संबंध में अभी तक कोई फैसला नहीं हुआ है. ऐसी संभावना है कि उनके दोनों पुत्र पाकिस्तान नहीं आएं क्योंकि एक अदालत ने विदेशों में संपत्ति से जुड़े एक मामले में उन्हें फरार घोषित किया है.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement