एवरेस्ट पर मिले 10,000 किलो कचरे को खजाने में बदलने की कोशिश, कुछ ऐसी है प्लानिंग

माउंट एवरेस्ट को साफ-सुथरा रखने और गंदगी से बचाने के लिए नेपाल ने एक महीने का सफाई अभियान चलाया है.

एवरेस्ट पर मिले 10,000 किलो कचरे को खजाने में बदलने की कोशिश, कुछ ऐसी है प्लानिंग

माउंट एवरेस्ट को साफ-सुथरा रखने के लिए नेपाल ने एक महीने का सफाई अभियान चलाया

नेपाल:

माउंट एवरेस्ट को साफ-सुथरा रखने और गंदगी से बचाने के लिए नेपाल ने एक महीने का सफाई अभियान चलाया है. पर्वतीय क्षेत्र से अब तक 10,000 किलोग्राम से अधिक कचरा इकट्ठा किया गया है. समाचार एजेंसी सिन्हुआ ने रविवार को बताया कि इस ऐतिहासिक सफाई अभियान को सरकारी और गैर-सरकारी एजेंसियों ने मिलकर बेस कैंप और चार उच्च शिविरों से समर्पित शेरपा टीम को जुटाकर चलाया, जिसमें संसार की छत से न केवल कचरे को एकत्रित किया गया, बल्कि चार शवों को भी हटाया गया.

Airtel ने पेश किया 148 रुपये का नया प्रीपेड रीचार्ज पैक, जानें खासियतें

इन ठोस अवशेषों को काठमांडू के पास स्थित लैंडफिल साइट (अपशिष्ट पदार्थो को फेंकने की जगह) में फेंकने के बजाय, विभिन्न उत्पादों के लिए कच्चे माल खातिर इन्हें अलग किया गया. इसके बाद इन्हें संसाधित कर इनका पुनर्चक्रित (रिसाइकिल) किया गया.

सिन्हुआ ने ब्लू वेस्ट टू वैल्यू के प्रधान नवीन विकास महारजन के हवाले से बताया, "हमने एकत्रित सामग्रियों को पहले विभिन्न श्रेणियों में अलग-अलग किया, जैसे कि प्लास्टिक, कांच, लोहा, एल्युमीनियम और कपड़े. प्राप्त 10 टन कचरे में से दो टन का पुनर्चक्रित किया गया, जबकि बाकी बचे आठ टनों में अधजली वस्तुएं और मिट्टी से सने हुए आवरण होने की वजह से उनका पुनर्चक्रण नहीं किया जा सकता."

साल 2017 से 50 से अधिक लोग काठमांडू स्थित ब्लू वेस्ट टू वैल्यू से जुड़े हैं, यह एक सामाजिक उद्यम है जो कचरे से उपयोगी वस्तुएं बनाने का काम करती है.

मॉब लिंचिंग से डरकर मुस्लिम अफसर बदलना चाहता है अपना नाम, कहा- नकली नाम बताकर आसानी से निकल सकता हूं

पहाड़ों से प्राप्त कचरे का पुनर्चक्रण करने के अलावा महारजन की टीम नगरपालिकाओं, अस्पतालों, होटलों और विभिन्न कार्यालयों के साथ भी काम कर रही है, ताकि कचरे का अधिक से अधिक सदुपयोग किया जा सके और लैंडफिल में भेजे गए कचरों की मात्रा को कम किया जा सके और हरित रोजगार का सृजन किया जा सके.

एवरेस्ट सफाई अभियान को और ज्यादा प्रभावी बनाने के लिए कंपनी ने अधिकारियों को पहाड़ी क्षेत्र में प्रारंभिक प्रसंस्करण इकाई को स्थापित करने का सुझाव दिया है, ताकि इन कचरों को जल्द से जल्द अलग कर इनका उचित प्रबंध किया जा सके.

हालांकि यह कंपनी खुद इन पदार्थो का पुनर्चक्रण नहीं करती है, बल्कि मोवारे डिजाइन नामक एक अन्य फर्म इस काम में उनकी मदद करती है, ताकि पुनर्चक्रित कांच के उत्पाद बनाकर उन्हें ऑनलाइन बेचा सके.

Newsbeep

(इनपुट आईएएनएस से)

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


Video: एवरेस्ट पर तिरंगा लहराने वाली अनीता कुंडू ने NDTV से की खास बातचीत