जापान और चीन बोले, उत्तर कोरिया के परमाणु परीक्षण के बाद किसी विकिरण का नहीं चला पता

चीन के पर्यावरण मंत्रालय ने सोमवार को बताया कि इसकी कोरियाई सीमा के निकट भी विकिरण का स्तर सामान्य था.

जापान और चीन बोले, उत्तर कोरिया के परमाणु परीक्षण के बाद किसी विकिरण का नहीं चला पता

उत्तर कोरिया अपने परमाणु परिक्षण के कारण खबरों में है (प्रतीकात्मक तस्वीर)

खास बातें

  • भूकंप का झटका ‘संभवत: जमीन के अंदर’ हुई हलचल के कारण आया.
  • रिसाव होने की आशंकाओं के बीच जापान और चीन ने दिया बयान
  • कहा वायुमंडल में अब तक किसी विकिरण का पता नहीं चला है.
बीजिंग:

अपने हालिया परमाणु परिक्षण के कारण उत्तर कोरिया खबरों में बना हुआ है. उत्तर कोरिया के भूमिगत परमाणु परीक्षण के दौरान ‘जमीन’ से रिसाव होने की आशंकाओं के बीच जापान और चीन ने सोमवार को कहा कि उत्तर कोरिया के इस परीक्षण के बाद उन्हें वायुमंडल में अब तक किसी विकिरण का पता नहीं चला है. जापान सरकार के वरिष्ठ प्रवक्ता योशिहिदे सुगा ने संवाददाताओं से कहा कि ‘ना तो समूचे देश के निगरानी केंद्रों ने कोई विशेष घटना देखी’ या ना ही कल के विस्फोट के बाद एयर सेल्फ-डिफेंस द्वारा लिये गये नमूनों में कुछ पता चला.

चीन के पर्यावरण मंत्रालय ने सोमवार को बताया कि इसकी कोरियाई सीमा के निकट भी विकिरण का स्तर सामान्य था.

यह भी पढे़ं : दक्षिण कोरिया ने उत्तर कोरिया के परमाणु परीक्षण के बाद शुरू किया मिसाइल अभ्यास

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

मंत्रालय ने अपनी आधिकारिक वेबसाइट पर लिखा, ‘निगरानी के नतीजों से साफ साफ पता चलता है कि उत्तर कोरिया के इस परमाणु परीक्षण का अब तक हमारे देश के पर्यावरण या लोगों पर कोई प्रभाव नहीं पड़ा है.’ जापान के रक्षा मंत्री इत्सुनोरी ओनोदेरा ने रविवार को कहा था कि जापान ने रेडियोधर्मी कणों की पहचान करने में सक्षम ‘स्निफर’ विमानों को तैनात किया है. उत्तर कोरिया के परमाणु विस्फोट के बाद इसके रिसाव होने की आशंका है. उत्तर कोरिया इसके हाईड्रोजन बम होने का दावा करता है. चीनी निगरानी केंद्रों ने विस्फोट के चलते शुरुआती भूकंप के झटकों के तुरंत बाद दूसरा झटका महसूस किया था.

VIDEO : किम जोंग-उन से जुड़ी दस बातें​
निगरानी केंद्र ने कहा कि 4.6 तीव्रता का दूसरा भूकंप का झटका ‘संभवत: जमीन के अंदर’ हुई हलचल के कारण आया.(इनपुट एएफपी से)