NDTV Khabar

कोरियाई प्रायद्वीप में तनाव के लिए उत्तर कोरिया ने अमेरिका को ठहराया दोषी

उत्तर कोरिया ने अपने परमाणु कार्यक्रम पर तनाव बढ़ाने के लिए अमेरिका के 'परमाणु ब्लैकमेल' को दोष दिया.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
कोरियाई प्रायद्वीप में तनाव के लिए उत्तर कोरिया ने अमेरिका को ठहराया दोषी

फाइल फोटो

नई दिल्ली: संयुक्त राष्ट्र के एक वरिष्ठ अधिकारी के साथ मुलाकात के बाद उत्तर कोरिया ने अपने परमाणु कार्यक्रम पर तनाव बढ़ाने के लिए अमेरिका के 'परमाणु ब्लैकमेल' को दोष दिया. हालांकि, संगठन के साथ नियमित संवाद कायम रखने पर सहमति भी जताई. सरकारी मीडिया ने आज यह जानकारी दी.

संकट को कम करने के उद्देश्य से जेफरी फैल्टमेन पांच दिवसीय दौरे पर प्योंगयांग गए थे और शनिवार को वहां से बीजिंग रवाना हो गए. हफ्ते भर पहले ही उत्तर कोरिया ने कहा था कि उसने नई बैलिस्टिक मिसाइल का परीक्षण किया है जो अमेरिका तक पहुंचने में सक्षम है.

यह भी पढ़ें - उत्तर कोरिया का दावा- युद्ध तो होकर रहेगा, मगर कब ये तय नहीं

वर्ष 2010 के बाद से संरा के इस स्तर के किसी राजनयिक का यह पहला दौरा था. उन्होंने विदेश मंत्री री यांग हो और उप विदेश मंत्री पाक म्योंग कुक से मुलाकात की. उन्होंने संरा द्वारा समर्थित चिकित्सकीय सुविधाओं का भी दौरा किया. उत्तर कोरिया की सरकारी समाचार एजेंसी केसीएनए ने यह जानकारी दी.

यह भी पढ़ें - अमेरिका व दक्षिण कोरिया ने शुरू किया अभी तक का सबसे बड़ा वायुसेना अभ्यास, उत्तर कोरिया ने लगाया उकसाने का आरोप

टिप्पणियां
रिपोर्ट में कहा गया, 'इन सभी बैठकों में हमारे पक्ष की ओर से कहा गया कि कोरियाई प्रायद्वीप में वर्तमान में जो तनावपूर्ण स्थिति बनी है उसकी वजह उत्तर कोरिया के प्रति अमेरिकी की शत्रुता की नीति और उसका परमाणु ब्लैकमेल है.' फैल्टमेन संरा के राजनीतिक मामलों के अवर महासचिव हैं. उनका यह दौरा अमेरिका और दक्षिण कोरिया के सबसे बड़े संयुक्त सैन्य अभ्यास के ठीक बाद हुआ है. 

VIDEO: स्पीड न्यूज : उत्तर कोरिया के सेना प्रमुख को गोलियों से भुना


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement