उत्तर कोरिया ने पेश की नई बैलेस्टिक मिसाइल, अमेरिकी डिफेंस सिस्टम को दे सकती है चकमा

परमाणु हथियारों (Atomic Weapon) से लैस उत्तर कोरिया ने एक बार फिर हुंकार भरी है. उसने शनिवार को सैन्य परेड में विशालकाय बैलेस्टिक मिसाइल (Missile) का प्रदर्शन किया. उत्तर कोरिया (North Korea) की इस कार्रवाई से अमेरिका, दक्षिण कोरिया और जापान जैसे देश भड़क सकते हैं.

उत्तर कोरिया ने पेश की नई बैलेस्टिक मिसाइल, अमेरिकी डिफेंस सिस्टम को दे सकती है चकमा

उत्तर कोरिया की सैन्य परेड में नई बैलेस्टिक मिसाइल का प्रदर्शन

खास बातें

  • उत्तर कोरिया ने नई बैलेस्टिक मिसाइल ह्वेसांग-15 का प्रदर्शन किया
  • उत्तर कोरिया के सैन्य शासक किम जोग उन ने कहा, सैन्य ताकत बढ़ाएंगे
  • अमेरिका समेत सभी महाद्वीपों तक मार कर सकती हैं ये मिसाइलें
सियोल:

परमाणु हथियारों (Atomic Weapon) से लैस उत्तर कोरिया ने एक बार फिर हुंकार भरी है. उसने शनिवार को सैन्य परेड में विशालकाय बैलेस्टिक मिसाइल (Missile) का प्रदर्शन किया. सैन्य विशेषज्ञों का दावा है कि यह मिसाइल अमेरिकी डिफेंस सिस्टम को भी चकमा दे सकती है. उत्तर कोरिया (North Korea) की इस कार्रवाई से अमेरिका, दक्षिण कोरिया और जापान जैसे देश भड़क सकते हैं.

अमेरिकी वैज्ञानिक ने इन मिसाइलों से लदे वाहनों की तस्वीरें ट्वीट की हैं. इस मिसाइल को ह्ववेसांग-15 इंटरकांटीनेंटल बताया गया है. उत्तर कोरिया की आधिकारिक समाचार एजेंसी केसीटीवी ने टीवी पर इस सैन्य परेड का सजीव प्रसारण दिखाया. माना जा रहा है कि इस मिसाइल की पहुंच में अमेरिका के साथ ज्यादातर महाद्वीप आते हैं. अमेरिकी वैज्ञानिकों ने कहा कि किसी वाहन के जरिये प्रक्षेपण में सक्षम यह अब तक की सबसे बड़ी लिक्विड फ्यूल आधारित मिसाइल है.अमेरिका में नए राष्ट्रपति के शपथग्रहण समारोह के दौरान उत्तर कोरिया इस मिसाइल का परीक्षण भी कर सकता है.

ताकत नहीं बढ़ाई तो खून के आंसू रोने पड़ेंगे
सैन्य परेड में उत्तर कोरिया के शासक किम जोंग उन को मंच से हथियारों का निरीक्षण करते देखा जा रहा है. परेड के दौरान ग्रे रंग के सूट में दिख रह किम जोंग उन ने कहा कि उत्तर कोरिया आत्म रक्षा और निवारक क्षमता हासिल करने के लिए सैन्य शक्ति बढ़ाता रहेगा. उन्होंने कहा कि अगर आपके पास ताकत नहीं है तो खून के आंसू रोने पड़ेंगे.

कोरोना के खतरे से बेपरवाह दिखे सैनिक
सैन्य परेड में उत्तर कोरियाई सेना बिना मॉस्क या सामाजिक दूरी के दिखे. वे एक दूसरे से कदमताल करते साथ दिखाई पड़ रहे थे. सैन्य परेड देखने को उमड़ी भीड़ में भी सोशल डिस्टेंसिंग नदारद थी.

Newsbeep

अमेरिका के साथ वार्ता खटाई में
उत्तर कोरिया ने सैन्य ताकत का यह इजहार अमेरिका में चुनाव प्रचार के दौरान किया है. उत्तर कोरिया और अमेरिका के बीच पिछले दो सालों से परमाणु वार्ता भी चल रही है.लेकिन फिलहाल यह दोनों पक्षों के बीच गतिरोध कायम है. साम्यवादी देश से रिश्ते सुधारने के लिए अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने किम जोग उन से मुलाकात भी की थी. हालांकि विश्लेषकों का कहना है कि कूटनीतिक वार्ता के बीच भी उत्तर कोरिया ने मिसाइल कार्यक्रम बंद नहीं किया. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


अमेरिकी डिफेंस सिस्टम को नाकाम कर सकती है मिसाइल
सैन्य विश्लेषकों का कहना है कि उत्तर कोरिया के पास 2017 से ही ऐसे मिसाइलें हैं, जो अमेरिकी शहरों तक मार कर सकती हैं, लेकिन यह मिसाइल मल्टीपल रिइंट्री वहिकल क्षमता से लैस है, ऐसे में यह अमेरिकी मिसाइल डिफेंस सिस्टम को भी चकमा दे सकती है. उसके पास पनडुब्बी से बैलेस्टिक मिसाइल दागने की क्षमता भी है. सैन्य शासन वाला देश उत्तर कोरिया अक्सर जापान और दक्षिण कोरिया से लगे समुद्री क्षेत्र में मिसाइलें दागता रहा है, जिससे क्षेत्र में सैन्य तनाव बना हुआ है.
 



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)