नॉर्थ कोरिया और साउथ कोरिया फिर आमने-सामने, तानाशाह किम जोंग उन की बहन बोलीं- कार्रवाई करेंगे

उत्तर कोरिया के ताकतवर तानाशाह किम जोंग उन (Kim Jong Un) की बहन किम यो जोंग (Kim Yo Jong) ने शनिवार को दक्षिण कोरिया को कार्रवाई की धमकी दी.

नॉर्थ कोरिया और साउथ कोरिया फिर आमने-सामने, तानाशाह किम जोंग उन की बहन बोलीं- कार्रवाई करेंगे

किम यो जोंग तानाशाह किम जोंग उन की बहन हैं. (फाइल फोटो)

खास बातें

  • नॉर्थ कोरिया और साउथ कोरिया में तनाव
  • किम जोंग उन की बहन यो जोंग ने दी धमकी
  • किम यो जोंग ने दी सैन्य कार्रवाई की धमकी
सियोल:

नॉर्थ कोरिया (North Korea) साउथ कोरिया (South Korea) के खिलाफ कार्रवाई करेगा. उत्तर कोरिया के ताकतवर तानाशाह किम जोंग उन (Kim Jong Un) की बहन किम यो जोंग (Kim Yo Jong) ने शनिवार को दक्षिण कोरिया को धमकी देते हुए यह बात कही है. KCNA न्यूज एजेंसी के अनुसार किम यो जोंग ने सियोल की निंदा करते हुए कहा, 'मुझे लगता है कि साउथ कोरिया अथॉरिटी को तोड़ने का यह सबसे सही समय है. हम जल्द एक्शन लेंगे.'

किम यो जोंग ने कहा, 'सुप्रीम लीडर, हमारी पार्टी और राज्य, देश की ओर से दी गई शक्तियों का इस्‍तेमाल करते हुए मैं हथियार संबंधी विभाग के प्रभारी को ये निर्देश देती हूं कि वो अगली कार्रवाई के रूप में शत्रु के खिलाफ जोरदार कार्रवाई करें.' यो जोंग ने आगे कहा, 'दुश्मन के खिलाफ कार्रवाई का निर्णय हमारी आर्मी के जनरल स्टाफ करेंगे.'

Newsbeep

इससे पहले किम यो जोंग ने अलगाववादियों को 'धरती का कीड़ा' बताते हुए कहा था, 'उन्होंने अपनी मातृभूमि को धोखा दिया है. ये वक्त है कि उनके मालिकों (दक्षिण कोरिया की सरकार) की जवाबदेही तय की जाए.' इस बयान में किम यो जोंग ने 2018 में मून जे-इन के प्योंगचांग आने पर दोनों देशों के बीच सीमा तनाव को कम करने के लिए जिन सैन्य समझौते पर हस्ताक्षर हुए थे, उसे खारिज करने की धमकी देते हुए कहा था कि क्रॉस-बॉर्डर लाएज़न ऑफिस को भी बंद कर दिया जाएगा.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


बता दें कि दक्षिण कोरिया के सामाजिक कार्यकर्ता और उत्तर कोरिया के अलगाववादी बहुत लंबे समय से उत्तर कोरिया के खिलाफ आवाज उठा रहे हैं. यह कार्यकर्ता गुब्बारों में भरकर उत्तर कोरिया में मानवाधिकारों के उल्लंघन और न्यूक्लियर पॉवर को लेकर पागलपन के खिलाफ संदेश भेजते रहते हैं. किम यो जोंग कई बार इसपर नाराजगी जाहिर कर चुकी हैं. वह कहती हैं कि दक्षिण कोरिया की सरकार सामाजिक कार्यकर्ताओं को ऐसा करने से नहीं रोकती है.



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)