Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

ओबामा या रोमनी : आसान नहीं है आगे की राह, वोटिंग जारी

ओबामा या रोमनी : आसान नहीं है आगे की राह, वोटिंग जारी

खास बातें

  • व्हाइट हाउस की दौड़ में राष्ट्रपति बराक ओबामा और मिट रोमनी में कड़ा मुकाबला नजर आ रहा है। वोटिंग अभी जारी है।
वाशिंगटन:

व्हाइट हाउस की दौड़ में राष्ट्रपति बराक ओबामा और मिट रोमनी में कड़ा मुकाबला नजर आ रहा है और दोनों पक्षों ने अपनी-अपनी जीत का दावा किया है। वोटिंग अभी जारी है।

अर्धरात्रि के तुरंत बाद शुरू हुए मतदान में न्यू हैम्पशाइर राज्य के एक छोटे से नगर के लोगों ने सबसे पहले वोट डाले।

न्यू हैम्पशाइर का डिक्सिविले नोच 1960 से ऐसा क्षेत्र रहा है जहां देश में सबसे पहले मतदान होता है। तब से इस शहर ने 13 विजेताओं में से सात के पक्ष में मतदान किया है।

ओबामा (51) और रोमनी (65) के बीच कांटे की टक्कर के एक और संकेत के तहत दोनों को इस जगह हुए मतदान में पांच-पांच मत मिले, और बराबरी का यह खेल इतिहास में पहली बार हुआ है।

भारत और दुनिया के अधिकतर लोकतंत्रों में मतदान शुरू होने तथा बंद होने का समय एक होता है, जबकि अमेरिका में अलग-अलग राज्यों में अलग-अलग समय होता है। विश्व के सबसे पुराने लोकतंत्र में चुनावी कार्यक्रम राज्यों के हिसाब से अलग-अलग होता है।

न्यूयॉर्क में स्थानीय समयानुसार, अमेरिकी आज सुबह छह बजे से रात 11 बजे तक वोट डालेंगे। आज के चुनाव से कुछ घंटे पहले रोमनी और ओबामा के प्रचार अभियान से जुड़े खेमों ने दावा किया कि आंकड़े उनके पक्ष में हैं।

देश में एक तिहाई मतदाता ऐसे भी हैं, जो मतदान के दिन से पहले ही वोट डालने के अधिकार का इस्तेमाल कर अपना वोट डाल चुके हैं। जॉर्ज मैशन यूनिवर्सिटी के यूएस इलेक्शन प्रोजेक्ट के आंकड़ों के मुताबिक, तीन करोड़ पांच लाख से अधिक मतदाता पहले ही मतदान कर चुके हैं। ओबामा भी अपनी पत्नी मिशेल ओबामा के साथ मतदान के दिन से पहले ही अपना वोट डाल चुके हैं और ऐसा करने वाले वह देश के पहले राष्ट्रपति बन गए हैं।

राष्ट्रपति और रोमनी के बीच चल रही चुनावी जंग ऐसे 10 राज्यों पर केंद्रित हो गई है, जिनका रुख आखिरी क्षण में कभी भी किधर भी हो सकता है।

ओबामा अपना चुनावी दिन शिकागो में मित्रों के साथ बास्केटबाल खेलने और साक्षात्कार देने में गुजारेंगे। रोमनी आज चुनाव के दिन भी अपना प्रचार अभियान जारी रखेंगे, क्योंकि वह ओहियो और पेनसिल्वानिया के मतदाताओं को लुभाना चाहते हैं।

प्रचार अभियान से जुड़े अधिकारियों के अनुसार, रोमनी ओहियो और पेनसिल्वानिया जाएंगे। राजनीतिक विश्लेषकों का मानना है कि यह उनका अंतिम घड़ी में भी अपनी संभावनाओं को मजबूत रखने का प्रयास है। ओबामा ने अपना प्रचार अभियान सोमवार को कोलराडो के एक कम्युनिटी कॉलेज में खत्म कर दिया था।

दोनों पक्ष ‘270’ के जादुई आंकड़े को छूने की उम्मीद लगाए बैठे हैं, जो जीत के लिए जरूरी इलेक्टोरल कॉलेज मतों की न्यूनतम संख्या है। अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव एक ऐसी प्रणाली के तहत होता है, जहां प्रत्येक राज्य में आबादी के आधार पर खास इलेक्टोरल वोटों की संख्या तय है। चुनाव पूर्व सर्वेक्षणों में दोनों उम्मीदवारों के बीच कांटे की टक्कर बताई गई है।

एक नवीनतम सर्वेक्षण के अनुसार, ओबामा के पक्ष में 50 फीसदी मत जा सकते हैं, जबकि रोमनी के पक्ष में मतों का आंकड़ा 47 प्रतिशत है। सर्वेक्षण में यह भी कहा गया है कि इसमें तीन प्रतिशत त्रुटि की संभावना हो सकती है। दैनिक ने कहा, सर्वेक्षण में ओबामा को रोमनी के मुकाबले अधिक पसंदीदा उम्मीदवार पाया गया। 55 प्रतिशत मतदाताओं ने कहा कि मंगलवार के चुनाव में ओबामा को जीत मिलेगी। इसके विपरीत 35 प्रतिशत मतदाताओं की राय में विजयश्री का सेहरा रोमनी के सिर बंधेगा। दस प्रतिशत मतदाताओं ने कोई राय जाहिर नहीं की।

रिपब्लिकन नीतिकार कार्ल रोव ने दावा किया कि रोमनी को 285 इलेक्टोरल वोट (चुनाव जीतने के लिए जरूरी से अधिक) मिलेंगे। साप्ताहिक ऑनलाइन न्यूजलेटर सैबाटोज क्रिस्टल बॉल ने कहा कि ओबामा को 290 इलेक्टोरल कॉलेज वोट मिलेंगे, जबकि रोमनी 248 से पीछे रह जाएंगे।

वाशिंगटन एक्जामिनर के वरिष्ठ राजनीतिक विश्लेषक माइकल बैरोन ने कहा कि रोमनी को 315 मत मिलेंगे, जबकि ओबामा 223 मत हासिल कर पाएंगे।

ओबामा के प्रचार अभियान समूह की प्रवक्ता जेन साकी ने कहा कि प्रचार सही दिशा में बढ़ रहा है। उन्होंने रोमनी के जीत के दावे को कोरी कल्पना करार दिया।