NDTV Khabar

पाकिस्तान ने कई विदेशी एनजीओ से काम बंद करने को कहा : अधिकारी

पाकिस्तान ने कुछ विदेशी सहायताकर्मियों के खिलाफ ‘देश विरोधी’ गतिविधियों के आरोप लगने के बाद 2015 में अंतरराष्ट्रीय गैर सरकारी संगठनों (एनजीओ) के लिए एक नया और कठोर कानून बनाया था.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
पाकिस्तान ने कई विदेशी एनजीओ से काम बंद करने को कहा : अधिकारी

(प्रतीकात्मक तस्वीर)

खास बातें

  1. एक दर्जन गैर सरकारी संगठनों से देश में अपनी गतिविधियां बंद करने को कहा.
  2. ‘सेव द चिल्ड्रन’ पर लगा था राष्ट्र विरोधी गतिविधियों का आरोप.
  3. संगठन ने अपने ऊपर लगे आरोपों को खारिज किया था.
इस्लामाबाद: पाकिस्तान ने विदेशी सहायता प्राप्त लगभग एक दर्जन गैर सरकारी संगठनों से देश में अपनी गतिविधियां बंद करने को कहा है. अधिकारियों ने कहा कि यह कदम दो साल पहले लाए गए कानून के तहत इन संगठनों द्वारा ‘पुन: पंजीकरण’ नहीं कराने की वजह से उठाया गया है. पाकिस्तान ने कुछ विदेशी सहायताकर्मियों के खिलाफ ‘देश विरोधी’ गतिविधियों के आरोप लगने के बाद 2015 में अंतरराष्ट्रीय गैर सरकारी संगठनों (एनजीओ) के लिए एक नया और कठोर कानून बनाया था. गृह मंत्रालय के एक अधिकारी के अनुसार कई विदेशी एनजीओ तब से नए कानून के तहत दोबारा पंजीकरण करा चुके हैं, लेकिन कुछ संगठन सरकार द्वारा तय किए गए मानदंडों को पूरा करने में विफल रहे.

यह भी पढ़ें : पाकिस्तान में किसी को नही आ रहा समझ आखिर कैसे गायब हो रहे हैं लोग...

अधिकारी ने नाम उजागर नहीं करने की शर्त पर कहा, ‘हमने उनसे (जो पुन: पंजीकरण कराने में विफल रहे) 60 दिन के भीतर काम बंद कर देने को कहा है.’ उन्होंने इन विदेशी सहायता समूहों की पहचान बताने या इनकी संख्या बताने से इनकार कर दिया, लेकिन कहा कि फैसले से लगभग एक दर्जन संगठन प्रभावित हो सकते हैं.

VIDEO : परवेज मुशर्रफ ने कबूले आतंकी संगठन लश्कर से रिश्ते


टिप्पणियां
मीडिया में आई खबरों में कहा गया कि लगभग 20 विदेशी सहायता समूहों से चले जाने को कहा गया है जिनमें ‘एक्शन बिड’ और अमेरिकी अरबपति जॉर्ज सोरोस का ‘ओपन सोसाइटी फाउंडेशन’ भी शामिल है. समस्या 2015 में तब आई जब ‘राष्ट्र विरोधी’ गतिविधियों का आरोप लगने के बाद ‘सेव द चिल्ड्रन’ से देश छोड़ने को कहा गया. संगठन ने अपने 
ऊपर लगे आरोपों को खारिज किया था.

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement