NDTV Khabar

पाकिस्‍तान ने रक्षा दिवस पर फिर छेड़ा 'कश्‍मीर राग', इमरान खान ने कहा- इस मुद्दे का समाधान निकाला जाना जरूरी

भारत के साथ 1965 के युद्ध की वर्षगांठ के मौके पर पाकिस्तान छह सितम्बर के दिन को रक्षा दिवस के रूप में मनाता है. इस मौके पर पाकिस्तान के राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री ने गुरूवार को कहा कि कश्मीर मुद्दे का समाधान निकाला जाना जरूरी है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
पाकिस्‍तान ने रक्षा दिवस पर फिर छेड़ा 'कश्‍मीर राग', इमरान खान ने कहा- इस मुद्दे का समाधान निकाला जाना जरूरी

इमरान खान की फाइल फोटो

खास बातें

  1. पाकिस्तान छह सितम्बर के दिन को रक्षा दिवस के रूप में मनाता है
  2. प्रधानमंत्री ने कहा कि कश्मीर मुद्दे का समाधान निकाला जाना जरूरी
  3. संयुक्त राष्ट्र के प्रस्तावों के तहत कश्मीर का समाधान निकालना अनिवार्य
नई दिल्ली: भारत के साथ 1965 के युद्ध की वर्षगांठ के मौके पर पाकिस्तान छह सितम्बर के दिन को रक्षा दिवस के रूप में मनाता है. इस मौके पर पाकिस्तान के राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री ने गुरूवार को कहा कि कश्मीर मुद्दे का समाधान निकाला जाना जरूरी है.  दोनों नेताओं ने कहा कि क्षेत्र में शांति के लिए संयुक्त राष्ट्र के प्रस्तावों के तहत कश्मीर मुद्दे का समाधान निकालना अनिवार्य है.  उन्होंने समानता के आधार पर अन्य देशों के साथ पारस्परिक सहयोग को बढ़ावा देने की अपनी इच्छा व्यक्त की.     

पाक में हाफिज सईद के खुलेआम घूमने पर भारत और अमेरिका की चिंता एक जैसी

प्रधानमंत्री इमरान खान ने इस मौके पर अपने संदेश में कहा कि पाकिस्तान शांतिपूर्ण सह-अस्तित्व में विश्वास करता है और अपने पड़ोसियों तथा पूरे विश्व के साथ समानता के आधार पर पारस्परिक सहयोग को बढ़ावा देना चाहता है.     निवर्तमान राष्ट्रपति ममनून हुसैन ने कहा कि पाकिस्तान के लोगों ने जबरदस्त राष्ट्रीय एकता का नजारा पेश किया और वे दुश्मन के नापाक मंसूबों को विफल करने के लिए अपने सशस्त्र बलों के साथ खड़े रहे. रेडियो पाकिस्तान की एक रिपोर्ट के अनुसार इस मौके पर राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री ने अपने अलग-अलग संदेशों में जोर दिया कि क्षेत्र में शांति के माहौल के लिए संयुक्त राष्ट्र के प्रस्तावों के तहत कश्मीर मुद्दे का समाधान निकाला जाना आवश्यक है.     

पाकिस्तान के नये राष्ट्रपति चुने गये इमरान खान के करीबी सहयोगी आरिफ अलवी

इमरान खान ने अपने संदेश में आतंकवाद को नेस्तानाबूद करने में पाकिस्तानी सशस्त्र बलों के साहस की प्रशंसा करते हुए कहा,‘इसमें कोई शक नहीं है कि उनके प्रयास राष्ट्रीय विकास, लोकतंत्र को मजबूत करने और दुनिया में शांति स्थपित करने के लिए हैं जो कि प्रशंसनीय है. ’ उन्होंने कहा कि सरकार आतंकवाद के तार्किक अंत तक इसके खिलाफ लड़ाई में संघर्ष को जारी रखेगी.     

पाकिस्तान का अमेरिका पर पलटवार, '30 करोड़ डॉलर सहायता राशि नहीं बल्कि हमारा ही पैसा'

टिप्पणियां
वहीं अमेरिका के विदेश मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने गुरुवार को कहा कि अमेरिका भी भारत के समान इस बात पर चिंतित है कि पाकिस्तान मुंबई हमले के मास्टरमाइंड हाफिज सईद को खुले आम घूमने दे रहा है जबकि आतंकवादी गतिविधियों में उसकी भूमिका को देखते हुए अमेरिका ने उस पर ईनाम रखा हुआ है.  अमेरिकी अधिकारी का यह बयान उस वक्त आया है जब एक दिन पहले अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ ने नव निर्वाचित प्रधानमंत्री इमरान खान से मुलाकात करके क्षेत्रीय शांति और स्थायित्व के लिए खतरा बने आतंकवादियों के खिलाफ निरंतर और निर्णायक कदम उठाने के लिए कहा है.   (इनपुट भाषा से)

VIDEO: नए दौर में सुधरेंगे भारत-पाक रिश्‍ते?

 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement