NDTV Khabar

जेल से अस्पताल ले जाए गए पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ

पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ को शनिवार को यहां एक अस्पताल में भर्ती कराया गया. वह भ्रष्टाचार के मामले में सात साल जेल की सजा काट रहे हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
जेल से अस्पताल ले जाए गए पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ

पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ (फाइल फोटो)

लाहौर:

पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ को शनिवार को यहां एक अस्पताल में भर्ती कराया गया. वह भ्रष्टाचार के मामले में सात साल जेल की सजा काट रहे हैं. अधिकारियों ने यह जानकारी दी. कुछ दिन पहले विशेष मेडिकल बोर्ड के इस नतीजे पर पहुंचने के बाद कि पूर्व प्रधानमंत्री को हृदय संबंधित जटिलताएं हो रही हैं उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया है. अल-अजीजिया स्टील मील्स भ्रष्टाचार मामले में लाहौर की कोट लखपत जेल में सजा काट रहे शरीफ (69) को सर्विसेज हास्पीटल में भर्ती कराया गया है. अधिकारियों ने बताया, ‘‘नवाज शरीफ को जेल से अस्पताल में भर्ती कराया गया है.'' उन्होंने बताया कि किसी तरह की चिकित्सा जांच से पहले अस्पताल प्रशासन ने पूर्व प्रधानमंत्री को चाय और नाश्ता दिया. 

जेल में बंद नवाज शरीफ की तबियत बिगड़ी, बेटी ने किया दावा- जेल प्रशासन नहीं करा रहा इलाज


उन्होंने बताया कि इसके बाद उन्हें अस्पताल के वीआईपी कक्ष में भर्ती कराया गया. अस्पताल में और आसपास सुरक्षा कड़ी कर दी गई है. हालांकि, अधिकारियों ने शरीफ के अस्पताल में रूकने की अवधि के बारे में कुछ नहीं बताया. इससे पहले दिन में पाकिस्तान में पंजाब प्रांतीय सरकार ने चिकित्सा बोर्ड की सिफारिश के बाद शरीफ को सरकारी सर्विसेज हास्पीटल में भर्ती कराने का आदेश दिया. जेल प्रशासन को दिये निर्देश में पंजाब सरकार ने कहा कि नवाज शरीफ कई बीमारियों से ग्रसित रहे हैं और विदेश में कई बार दिल की बीमारी से संबंधित उपचार करा चुके हैं. 

टिप्पणियां

नवाज शरीफ को जेल में टीवी, हीटर और कुर्सी मिलने के बाद मांगा गया Helper, मिला ये जवाब

उनके इसी इतिहास को देखते हुए यह सलाह दी गयी है कि उन्हें आगे की चिकित्सकीय जांच/प्रबंधन के लिये अस्पताल में भर्ती कराया जाये जहां उनकी बेहतर देखभाल हो सकेगी. पंजाब के सूचना मंत्री फयाजुल हसन चौहान ने कहा था कि छह सदस्यीय चिकित्सकीय बोर्ड की रिपोर्ट को देखते हुए शरीफ को अस्पताल में भर्ती कराने का फैसला किया गया है.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement