NDTV Khabar

पाकिस्तान ने भारतीय राजनयिकों को सिख श्रद्धालुओं से मिलने से रोका, भारत ने जताया विरोध

विदेश मंत्रालय ने एक बयान जारी कर कहा है कि करीब 1800 सिख श्रद्धालुओं का एक समूह तीर्थाटन सुगमता संबंधी द्विपक्षीय संधि के तहत 12 अप्रैल को पाकिस्तान की यात्रा पर गया था.

102 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
पाकिस्तान ने भारतीय राजनयिकों को सिख श्रद्धालुओं से मिलने से रोका, भारत ने जताया विरोध

प्रतीकात्मक चित्र

खास बातें

  1. श्रद्धालुओं को गुरुद्वारा जाने से भी रोका गया था
  2. कुछ दिन पहले ही पाकिस्तान तीर्थ पर गया था जत्था
  3. पाकिस्तान सरकार ने राजयनियों को मिलने से रोका
नई दिल्ली: भारत ने पाकिस्तान द्वारा अपने राजनयिकों को सिख श्रद्धालुओं से न मिलने देने पर कड़ा विरोध जताया है. गौरतलब है कि पिछले दिनों पाकिस्तान ने तीर्थयात्रा पर आए सिख श्रद्धालुओं को वहां के प्रमुख गुरुद्वारा जाने और भारतीय राजनयिकों से मिलने से रोका था. इस मामले को लेकर रविवार को विदेश मंत्रालय ने एक बयान जारी कर कहा है कि करीब 1800 सिख श्रद्धालुओं का एक समूह तीर्थाटन सुगमता संबंधी द्विपक्षीय संधि के तहत 12 अप्रैल को पाकिस्तान की यात्रा पर गया था.

यह भी पढ़ें: पाकिस्तान में दूल्हे ने पहने 17 लाख के जूते और 5 लाख की टाई, वलीमे में दिखे ऐसे

इन भारतीय तीर्थयात्रियों का स्वागत करने के लिए भारतीय उच्चायुक्त शनिवार को इवैक्यू ट्रस्ट प्रोपर्टी बोर्ड के अध्यक्ष के निमंत्रण पर गुरुद्वारा पंजा साहिब जा रहे थे लेकिन बिना कोई कारण बताए ही उन्हें बीच में ही रोक दिया गया. विदेश मंत्रालय ने इसे पाकिस्तान का अतार्किक कूटनीतिक बेअदबी बताते हुए कहा कि है कि ये घटनाएं राजनयिक संबंधों पर वियना संधि का स्पष्ट उल्लंघन है.

टिप्पणियां
VIDEO: पाकिस्तान पर जासूसी का आरोप.


मंत्रालय के एक अधिकारी ने बताया कि भारत ने तीर्थयात्रा पर गए श्रद्धालुओं से भारतीय राजनयिकों एवं दूतावास के कर्मचारियों से न मिलने देने पर भी कड़ा एतराज जताया है. गौरतलब है कि दो हफ्ते पहले ही भारत और पाकिस्तान, राजनयिकों के साथ व्यवहार से जुड़े मुद्दों का समाधान करने पर राजी हुए थे.(इनपुट भाषा से) 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement