NDTV Khabar

कुलभूषण जाधव की मां और पत्नी को पाकिस्तान ने दिया वीजा, 25 को मुलाकात संभव

पाकिस्तान की एक सैन्य अदालत ने बीते अप्रैल में जासूसी और आतंकवाद के आरोप में जाधव को मौत की सजा सुनाई थी. इसके बाद भारत ने मई में आईसीजे का रुख किया था.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
कुलभूषण जाधव की मां और पत्नी को पाकिस्तान ने दिया वीजा, 25 को मुलाकात संभव

जासूसी के आरोप में पाकिस्तान की जेल में बंद हैं कुलभूषण जाधव.

खास बातें

  1. पाकिस्तान के विदेश कार्यालय ने वीजा देने की जानकारी दी
  2. जासूसी के आरोप में पाकिस्तान की जेल में बंद हैं जाधव
  3. 25 दिसंबर पत्नी और मां से जाधव की मुलाकात हो सकती है
इस्लामाबाद: पाकिस्तान ने भारतीय कैदी कुलभूषण जाधव की पत्नी और मां को इस्लामाबाद आने के लिए वीजा जारी कर दिया. पाकिस्तान के विदेश कार्यालय ने यह जानकारी दी. वीजा मिलने के बाद 47 साल के जाधव की पत्नी और मां अब उनसे मुलाकात कर सकेंगी. पाकिस्तान की एक सैन्य अदालत ने बीते अप्रैल में जासूसी और आतंकवाद के आरोप में जाधव को मौत की सजा सुनाई थी. इसके बाद भारत ने मई में अंतरराष्ट्रीय न्यायालय (आईसीजे) का रुख किया था.
यह भी पढ़ें : पाक ने भारत में अपने उच्चायोग को जाधव के परिवार को वीजा देन का निर्देश दिया 

भारत की अपील पर अंतिम फैसला आने तक आईसीजे ने जाधव को मौत की सजा दिए जाने पर रोक लगा दी थी. विदेश कार्यालय के प्रवक्ता मोहम्मद फैसल ने ट्वीट किया, 'नई दिल्ली स्थित पाकिस्तान उच्चायोग ने कमांडर जाधव की मां और पत्नी को वीजा जारी किया, ताकि वे उनसे मुलाकात के लिए इस्लामाबाद आ सकें.' पाकिस्तान 25 दिसंबर को जाधव की मुलाकात उनकी मां और पत्नी से कराने पर सहमत हुआ है. वह भारत की इस मांग पर भी सहमत हुआ है कि उनके साथ इस्लामाबाद स्थित भारतीय उच्चायोग के एक अधिकारी को भी जाने दिया जाए.

टिप्पणियां
VIDEO : कुलभूषण जाधव को पाकिस्तान ने दी पत्‍नी से मिलने की इजाजत

पिछले हफ्ते पाकिस्तान ने नई दिल्ली स्थित अपने उच्चायोग को निर्देश दिया था कि वह जाधव की मां और पत्नी को वीजा जारी करे. पाकिस्तान का दावा है कि उसके सुरक्षा बलों ने पिछले साल तीन मार्च को अपने अशांत प्रांत बलूचिस्तान से जाधव उर्फ हुसैन मुबारक पटेल को उस वक्त गिरफ्तार किया था जब वह कथित तौर पर ईरान से पाकिस्तानी सीमा में दाखिल हुए. बहरहाल, भारत का कहना है कि जाधव को ईरान से अगवा किया गया और भारतीय नौसेना से रिटायर होने के बाद वहां उनके व्यापारिक हित हैं. 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement