NDTV Khabar

'नोबेल शांति पुरस्कार' के बहाने इमरान खान ने अलापा कश्मीर राग, बोले- मैं लायक नहीं लेकिन जो...

पाकिस्तानी संसद में इमरान खान (Imran Khan) को नोबेल शांति पुरस्कार देने की मांग उठने के बाद अब खुद इमरान खान ने इसपर बयान दिया है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
'नोबेल शांति पुरस्कार' के बहाने इमरान खान ने अलापा कश्मीर राग, बोले- मैं लायक नहीं लेकिन जो...

नोबेल शांति पुरस्कार देने की मांग उठने के बाद अब खुद इमरान खान ने इसपर बयान दिया है.

खास बातें

  1. पाकिस्तान की संसद में पेश हुआ है प्रस्ताव
  2. इमरान खान को नोबेल शांति पुरस्कार देने की मांग
  3. अब इमरान खान ने इस पर अपना पक्ष रखा है
नई दिल्ली :

पाकिस्तानी संसद में इमरान खान (Imran Khan) को 'नोबेल शांति पुरस्कार' (Nobel Peace Prize) देने की मांग उठने के बाद अब खुद इमरान खान ने इसपर बयान दिया है. इमरान खान ने ट्वीट कर कहा है कि, ''मैं नोबेल शांति पुरस्कार के लायक नहीं हूं. 'नोबेल पुरस्कार' का हकदार एक ऐसा व्यक्ति होगा जो कश्मीरी लोगों की आशाओं के आलोक में कश्मीर विवाद का हल ढूंढेगा, और उपमहाद्वीप में शांति और मानव विकास का मार्ग प्रशस्त करेगा''. आपको बता दें कि भारत-पाकिस्तान के दरम्यान तनाव के बीच पाकिस्तान की संसद में इमरान खान को 'नोबेल शांति पुरस्कार' देने के समर्थन में एक प्रस्ताव पेश किया गया था. सूचना मंत्री फवाद चौधरी ने निचले सदन नेशनल असेंबली के सचिवालय में यह प्रस्ताव सौंपा. प्रस्ताव में कहा गया है कि भारतीय वायुसेना के विंग कमांडर को रिहा करने के खान के फैसले से पाकिस्तान और भारत के बीच तनाव दूर हुआ है. प्रस्ताव के मुताबिक खान ने तनाव की मौजूदा स्थिति में जिम्मेदाराना बर्ताव किया और वह 'नोबेल शांति पुरस्कार' के हकदार हैं.

पाकिस्तानी संसद में पेश इस प्रस्ताव पर सोशल मीडिया में तमाम तरह की टिप्पणी आई. तमाम लोगों ने इस प्रस्ताव को बचकाना बताया. पाकिस्तान की संसद में प्रधानमंत्री इमरान खान (Imran Khan) को 'नोबेल शांति पुरस्कार' देने की मांग उठने के बाद डॉ. कुमार विश्वास (Dr Kumar Vishvas) ने भी इस पर चुटकी ली. कुमार विश्वास ने अपने ट्विटर अकाउंट पर तंज कसते हुए लिखा, ''ऑस्कर क्यों नहीं दे देते''. कुमार विश्वास का यह ट्वीट सोशल मीडिया में वायरल हो गया. 


दोनों देशों के बीच ऐसे बढ़ा तनाव : 

पुलवामा आतंकी हमले के बाद 26 फरवरी को भारत ने पाकिस्तानी सरजमीं पर पल रहे जैश के आतंकी ठिकानों पर हमला बोला था. भारतीय वायुसेना ने पाकिस्तान के बालाकोट में जैश ए मोहम्मद के आतंकी शिविर पर 1000 किलो के बम गिराए थे. इसमें काफी आतंकियों के मारे जाने की बात सामने आई. भारत ने करीब 12 मिराज लड़ाकू विमानों का इस्तेमाल किया और 1000 किलो बमों की बारिश कर दी. इसके बाद पाकिस्तान की बौखलाहट सामने आने लगी और उसने भारत के दावे को खारिज करने की कोशिश की. 

इमरान खान को मिले नोबेल शांति पुरस्कार- पाकिस्तान की संसद में पेश हुआ प्रस्ताव

भारतीय वायुसेना की कार्रवाई के अगले ही दिन पाकिस्तान के लड़ाकू जहाज भारतीय सीमा में घुसने का प्रयास कर रहे थे. IAF ने इसका मुंहतोड़ जवाब दिया. वायुसेना के विंग कमांडर अभिनंदन 27 फरवरी को सुबह करीब दस बजे पाकिस्तानी वायुसेना के फाइटर प्लेन का पीछा करते हुए पाकिस्तान की सीमा में जा घुसे थे. पाकिस्तान के एफ-16 को मार गिराने के बाद अभिनंदन का विमान भी क्रैश हो गया. इस वजह से उन्हें किसी तरह पैराशूट की मदद से उतरना पड़ा. बाद में करीब 60 घंटे बाद पाकिस्तान ने उन्हें रिहा किया. 

टिप्पणियां

इमरान खान को नोबेल शांति पुरस्कार के प्रस्ताव पर कुमार विश्वास की चुटकी, बोले- फिर ऑस्कर... 

VIDEO- भारत-पाकिस्तान के बीच टेंशन में अब आगे क्या होगा?



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement