पाक पीएम इमरान खान का बड़ा बयान- घूस, ब्लैकमेलिंग और धमकी के जरिए न्यायपालिका पर दबाव बना रहा है माफिया

पीएमएल-एन नेता मरियम नवाज द्वारा शरीफ के मुकदमे की सुनवाई से संबंधित वीडियो लीक किये जाने के बाद खान का यह बयान आया है.

पाक पीएम इमरान खान का बड़ा बयान- घूस, ब्लैकमेलिंग और धमकी के जरिए न्यायपालिका पर दबाव बना रहा है माफिया

इमरान खान (फाइल फोटो)

खास बातें

  • पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ पर इमरान खान ने साधा निशाना
  • कहा- घूस, ब्लैकमेलिंग और धमकी के जरिए न्यायपालिका पर दबाव बना रहा है माफ
  • शरीफ फिलहाल लाहौर की कोट लखपत जेल में सात साल कैद की सजा काट रहे
पाकिस्तान:

मीडिया में आई खबरों के मुताबिक पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ (Nawaz Sharif) पर निशाना साधते हुए प्रधानमंत्री इमरान खान (Imran Khan) ने शनिवार को कहा कि विदेशों में जमा अपनी अरबों की रकम को सुरक्षित रखने के लिये पाकिस्तानी माफिया, संस्थानों और न्यायपालिका पर घूसखोरी, धमकी, ब्लैकमेलिंग जैसे हथकंडे अपना रहा है. द न्यूज की खबर के मुताबिक, पीएमएल-एन नेता मरियम नवाज द्वारा शरीफ के मुकदमे की सुनवाई से संबंधित वीडियो लीक किये जाने के बाद खान का यह बयान आया है. पीएमएल-एन के मुताबिक वीडियो में जवाबदेही अदालत के न्यायाधीश अरशद मलिक यह स्वीकार कर रहे हैं कि उन्होंने शरीफ को बिना साक्ष्य दोषी ठहराया.

जबरन बंद कराया गया नवाज शरीफ की बेटी मरियम शरीफ का इंटरव्यू, मचा बवाल

शरीफ फिलहाल लाहौर की कोट लखपत जेल में सात साल कैद की सजा काट रहे हैं. मलिक ने विपक्षी दल के दावों को खारिज करते हुए कहा था कि यह उन्हें और उनकी संस्था की छवि को धूमिल करने का प्रयास है. इस्लामाबाद उच्च न्यायालय ने शुक्रवार को विधि मंत्रालय को लिखा था कि वीडियो को लेकर न्यायाधीशों को संतुष्ट करने में विफल रहे मलिक को डी-नोटिफाई किया जाए.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

इमरान खान ने शरीफ और जरदारी से कहा- पहले लूटे हुए धन को लौटाएं, फिर देश से बाहर जाएं

अदालत में दिये गए हलफनामे में न्यायाधीश ने दावा किया कि उनके एक अनैतिक वीडियो के जरिये उन्हें ब्लैकमेल किया गया और शरीफ परिवार की तरफ से उन्हें बड़ी रिश्वत की पेशकश की गई. खान ने ट्वीट किया, 'ठीक ‘सिसलियन माफिया' की तरह ही पाकिस्तानी माफिया विदेशों में जमा किये गए अपने अरबों रुपयों की सुरक्षा के लिये सरकारी संस्थानों और न्यायपालिका पर रिश्वत,धमकी, ब्लैकमेल और याचना के जरिये दबाव बनाने के हथकंडे अपना रहा है.' (इनपुट: भाषा)