NDTV Khabar

पीएम इमरान खान के टीचर 'मेजर' का निधन, बंटवारे के बाद से पाकिस्तान आर्मी को देते थे ट्रेनिंग, देखें PHOTOS

जेफ्री को पाकिस्तान का सबसे फेवरेट हेडमास्टर (Pakistan's favourite headmaster) माना जाता था. क्योंकि वो पिछले 60 सालों से पाकिस्तान में बच्चों को अंग्रेज़ी और गणित की शिक्षा देते रहे थे.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
पीएम इमरान खान के टीचर 'मेजर' का निधन, बंटवारे के बाद से पाकिस्तान आर्मी को देते थे ट्रेनिंग, देखें PHOTOS

पाकिस्तान के 'मेजर' का निधन, पाकिस्तान आर्मी को देते थे ट्रेनिंग, रह चुके हैं पीएम इमरान खान के टीचर

नई दिल्ली:

जेफ्री डगलस लैंगलैंड्स (Geoffrey Douglas Langlands) पिछले 60 सालों से पाकिस्तान के बच्चों को पढ़ा रहे थे. उनके स्टूडेंट्स में खुद पाकिस्तान के पीएम इमरान खान (PM Imran Khan) शामिल हैं. जेफ्री ने ही इमरान खान को बचपन में पढ़ाया और उन्हें ट्रेकिंग सिखाई. इस बात का खुलासा पीएम इमरान खान ने ट्वीट कर कहा.

जेफ्री को पाकिस्तान का सबसे फेवरेट हेडमास्टर (Pakistan's favourite headmaster) माना जाता था. क्योंकि वो पिछले 60 सालों से पाकिस्तान में बच्चों को अंग्रेज़ी और गणित की शिक्षा देते रहे थे. वो फिलहाल लाहौर के ऐचीसन कॉलेज (Aitchison College) में पढ़ा रहे थे. उन्हें 'मेजर' (Major Langlands) नाम से जाना जाता था. उनका 101 साल की उम्र में निधन हुआ. 

 

इंग्लैंड में जन्मे जेफ्री डगलस लैंगलैंड्स दूसरे विश्व युद्ध के बाद ब्रिटिश काल में भारत आए. बंटवारे के बाद वो पाकिस्तान में बसे और वहीं, पाकिस्तान आर्मी को ट्रेनिंद और स्कूल में शिक्षा दी.


पीएम इमरान खान ने शेयर की स्कूल की तस्वीर

sm52tb98

Pakistan PM Imran Khan School Photo

 

जेफ्री डगलस लैंगलैंड्स कौन थे? (Major Geoffrey Douglas Langlands)

21 अक्टूबर 1917 में इंग्लैंड के योर्कशर (England, Yorkshire) में जेफ्री डगलस लैंगलैंड्स (Geoffrey Douglas Langlands) का जन्म हुआ. ब्रिटिश सेना जॉइन करने से पहले उन्होंने बतौर साइंस टीचर काम किया. दूसरे विश्व युद्ध (World War II, 1939) के दौरान 1942 में जेफ्री ब्रिटिश सेना से जुड़े. 

साल 1944 में लैगलैंड्स ब्रिटिश इंडिया के राज में बतौर सेना स्वयंसेवक के रूप में भारत आए. 1947 में भारत के बंटवारे के दौरान जेफ्री ने पाकिस्तान जाने का फैसला किया. वहां उन्होंने पाकिस्तान आर्मी (Pakistan Army) जॉइन की. 

करीब 6 साल बाद, 1954 में जेफ्री ने पाकिस्तान आर्मी में बतौर प्रशिक्षक काम शुरू किया. उस दौरान आयुब खान पाकिस्तान के राष्ट्रपति (Ayub Khan, President of Pakistan) हुआ करते थे. आयुब खान ने जेफ्री को लाहौर के (ऐचीसन कॉलेज) Aitchison College में पढ़ाने का त्यौता दिया. इसी कॉलेज में उन्होंने पीएम इमरान खान को पढ़ाया. 

जेफ्री ने ऐचीसन कॉलेज (Aitchison College) में बच्चों को करीब 25 साल तक अंग्रेज़ी और गणित की शिक्षा दी. उसके बाद 1979  वो केली हाउस स्कूल में पहले हाउस मास्टर बने. 

पाकिस्तान के चित्राल जिले में मौजूद सयुरज पब्लिक स्कूल (Sayurj Public School) में भी जेफ्री ने पढ़ाया. 95 साल की उम्र तक जेफ्री ने इस स्कूल में शिक्षा दी, जिसके बाद इस स्कूल का नाम बदलकर (Langlands School and College) किया गया.

जेफ्री को पाकिस्तान के दो सर्वोच्च नागरिक पुरस्कारों से भी नवाज़ा गया. 

टिप्पणियां

VIDEO:  दाऊद और हाफिज सईद पर पूछे सवाल पर क्या बोले इमरान खान



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement