NDTV Khabar

पाकिस्तान के राष्ट्रपति आरिफ अल्वी सड़कों पर कूड़ा उठाते आए नज़र, ट्वीट कर लोग बोले - ड्रामा

पाकिस्तान के राष्ट्रपति आरिफ अल्वी (Pakistan president Arif Alvi) को चांगला गली में ट्रैकिंग के दौरा कूड़ा चुनते देखा गया. चांगला गली, देश के गलयात क्षेत्र में पर्वतीय पर्यटन शहरों में से एक है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
पाकिस्तान के राष्ट्रपति आरिफ अल्वी सड़कों पर कूड़ा उठाते आए नज़र, ट्वीट कर लोग बोले - ड्रामा

पाकिस्तान : राष्ट्रपति ने पर्वतीय स्थल की ट्रैकिंग के दौरान कूड़ा उठाया

इस्लामाबाद:

पाकिस्तान के राष्ट्रपति आरिफ अल्वी (Pakistan president Arif Alvi) को चांगला गली में ट्रैकिंग के दौरा कूड़ा चुनते देखा गया. चांगला गली, देश के गलयात क्षेत्र में पर्वतीय पर्यटन शहरों में से एक है. द एक्सप्रेस ट्रिब्यून की रिपोर्ट के मुताबिक, अल्वी के बेटे द्वारा ट्विटर पर साझा की गई तस्वीरों में राष्ट्रपति कूड़े के थैले में कूड़ा एकत्र करते हुए और फिर इसे सड़क के किनारे डस्टबिन में डालते दिख रहे हैं.

राष्ट्रपति अल्वी ने पर्यटकों को उत्तर पर्वतीय क्षेत्र की यात्रा के दौरान जिम्मेदारी से व्यवहार करने की सलाह दी.


उन्होंने कहा, "अपनी यात्रा के दौरान हम आम तौर पर कूड़े के थैले साथ में ले जाते हैं, लेकिन अनजाने में उसे भूल जाते हैं. हमारे नागरिकों को शिक्षित करने की जरूरत है जिससे वे इस सुंदर देश का आनंद ले सकें और जिम्मेदार पर्यटक बन सकें."

वहीं, सोशल मीडियो पर ये तस्वीर आने के बाद अलग-अलग रिएक्शन आए. किसी ने राष्ट्रपति आरिफ अल्वी के इस काम को ड्रामा बताया तो कोई उनकी तारिफ करते हुए दिखा.

पाकिस्तान से खबरें और भी हैं...

मलीहा लोधी की वजह से पाक फिर हुआ शर्मिंदा, ब्रिटिश प्रधानमंत्री को लिख दिया 'विदेश मंत्री'

इमरान खान से मुलाकात में बोले डोनाल्‍ड ट्रंप, 'अगर दोनों देश राजी हों तो कश्‍मीर पर मैं मध्यस्थता के लिए तैयार हूं'

टिप्पणियां

कश्मीर मामले में इमरान खान और महमूद कुरैशी के झूठ को पाकिस्तानी पत्रकार ने रंगे हाथ पकड़ा

पाकिस्तान का ये शहर है दुनिया का दूसरा सबसे प्रदूषित शहर, जानिए किस नंबर पर है दिल्ली



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


 Share
(यह भी पढ़ें)... पश्चिमी मीडिया के कवर पर क्यों बदली मोदी और भारत की छवि?

Advertisement