Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

पाकिस्तान का यू-टर्न, कहा- सऊदी अरब नहीं होगा CPEC का तीसरा रणनीतिक भागीदार

महत्वाकांक्षी चीन-पाकिस्तान आर्थिक गालियारे (CPEC) में सऊदी अरब के तीसरे रणनीतिक भागीदार होने की घोषणा के कुछ ही दिन बाद पाकिस्तान ने यू-टर्न लेते हुए कहा है कि सऊदी अरब अब इसका हिस्सा नहीं होगा.

पाकिस्तान का यू-टर्न, कहा- सऊदी अरब नहीं होगा CPEC का तीसरा रणनीतिक भागीदार

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान. (फाइल फोटो)

इस्लामाबाद:

महत्वाकांक्षी चीन-पाकिस्तान आर्थिक गालियारे (CPEC) में सऊदी अरब के तीसरे रणनीतिक भागीदार होने की घोषणा के कुछ ही दिन बाद पाकिस्तान ने यू-टर्न लेते हुए कहा है कि सऊदी अरब अब इसका हिस्सा नहीं होगा. सीपीईसी चीन के राष्ट्रपति शी चिनपिंग की महत्वाकांक्षी 'बेल्ट एंड रोड इनिशिएटिव' परियोजना का महत्वपूर्ण हिस्सा है. चीन इसके तहत विभिन्न ढांचागत संरचना परियोजनाओं का वित्तपोषण कर विश्व में अपना दबदबा बनाना चाहता है.

यह भी पढ़ें : चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारा का विस्तार अब अफगानिस्तान तक करने की तैयारी

पाकिस्तानी अखबार डॉन की खबर के अनुसार, वहां के योजना एवं विकास मंत्री खुसरो बख्तियार ने मंगलवार को पत्रकारों से कहा कि सऊदी अरब का प्रस्तावित निवेश एक अलग द्विपक्षीय संधि के तहत होगा. उन्होंने कहा, 'सऊदी अरब सीपीईसी में रणनीतिक भागीदार नहीं बनेगा. ऐसी धारणा सत्य नहीं हैं.' बख्तियार ने कहा कि कोई भी तीसरा देश इसमें सिर्फ तभी भागीदार हो सकता है जब वह परियोजना से बाहर के निवेश व कारोबार का हिस्सा बने.

यह भी पढ़ें :  CPC परियोजना से जुड़ने में अगर भारत को दिक्कत तो चीन नहीं बनाएगा दबाव

उन्होंने कहा, 'चीन और पाकिस्तान के बीच करार की रूपरेखा द्विपक्षीय है और सऊदी अरब तृतीय पक्ष निवेशक की हैसियत से इसमें शामिल नहीं हो सकता है.' पाकिस्तान के नए प्रधानमंत्री इमरान खान के सऊदी अरब दौरे से लौटने के बाद सूचना मंत्री फवाद चौधरी ने पिछले महीने कहा था कि सऊदी अरब सीपीईसी का तीसरा रणनीतिक भागीदार है. दिलचस्प यह है कि जब बख्तियार सीपीईसी में सऊदी के तीसरे रणनीतिक भागीदार नहीं होने का स्पष्टीकरण दे रहे थे, तब चौधरी उनके बगल में ही बैठे हुए थे.

यह भी पढ़ें : भारत ने चीन की ‘बेल्ट एण्ड रोड’ पहल का नहीं किया समर्थन

बख्तियार ने स्पष्ट किया कि सऊदी अरब जैसे किसी भी देश को सीपीईसी की रूपरेखा के दायरे में लाने के बारे में कोई निर्णय नहीं लिया गया है.