देशों की सूची से निकालने पर फिलिस्तीन ने अमेरिका की निंदा की

फिलिस्तीन को देशों और प्रांतों की अपनी सूची से निकालने पर फिलिस्तीन के अधिकारियों ने अमेरिका की निंदा की है. समाचार एजेंसी सिन्हुआ के अनुसार, फिलिस्तीन के सरकारी प्रवक्ता नबिल अबु रुदैनेह ने रविवार को एक आधिकारिक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि इस निर्णय में अमेरिका की विदेश नीति में अभूतपूर्व गिरावट दिखती है.

देशों की सूची से निकालने पर फिलिस्तीन ने अमेरिका की निंदा की

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप

नई दिल्ली:

फिलिस्तीन को देशों और प्रांतों की अपनी सूची से निकालने पर फिलिस्तीन के अधिकारियों ने अमेरिका की निंदा की है. समाचार एजेंसी सिन्हुआ के अनुसार, फिलिस्तीन के सरकारी प्रवक्ता नबिल अबु रुदैनेह ने रविवार को एक आधिकारिक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि इस निर्णय में अमेरिका की विदेश नीति में अभूतपूर्व गिरावट दिखती है. रुदैनेह ने कहा, "यह निर्णय एक बार फिर दिखाता है कि अमेरिका ना सिर्फ इजरायल का पक्ष ले रहा है, बल्कि इजरायल के कट्टर दक्षिणपंथ की योजनाओं के पूरे सहयोग में है." रविवार को इससे पहले इजरायल रेडियो ने बताया था कि अमेरिकी विदेश विभाग ने अपनी आधिकारिक वेबसाइट से फिलिस्तीनी सीमा या फिलिस्तीनी प्रशासन से संबंधित सभी जानकारियों को डिलीट कर दिया. 

इजरायल ने गाजा पट्टी में 70 सैन्य ठिकानों पर हमला किया

दिसंबर 2017 में जेरूसलम को इजरायल की राजधानी के रूप में मान्यता देने की अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की घोषणा के बाद से फिलिस्तीन और अमेरिका के बीच राजनीतिक संबंध नाजुक दौर में पहुंच चुके हैं. मई 2018 में वाशिंगटन ने इजरायल में अपने दूतावास को जेरूशलम स्थानांतरित कर दिया था. 

फिलिस्तीनी शरणार्थियों के लिए काम करने वाली UN को एजेंसी को दी जाने वाली आर्थिक मदद रोकी

रविवार को फिलिस्तीनी विदेश मंत्रालय ने भी फिलिस्तीन या फिलिस्तीनियों को संबोधित करने वाले सभी शब्दों को अपनी आधिकारिक वेबसाइट से हटाने के लिए अमेरिका की निंदा की थी. मंत्रालय ने एक बयान में कहा, "वर्तमान अमेरिकी सरकार दो-राष्ट्र समाधान को नष्ट करने और अपने अधिकारों से बचने के लिए इजरायल की योजना को लागू करती है."

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)