NDTV Khabar

मुशर्रफ ने भारत के खिलाफ उगला जहर, कहा- मैं हाफिज सईद और लश्कर-ए-तैयबा का सबसे बड़ा समर्थक

पाक के पूर्व तानाशाह परवेज मुशर्रफ ने पाकिस्तान के निजी समाचार चैनल पर खुद को लश्कर ए तैयबा (एलईटी) का सबसे बड़ा समर्थक बताया है.

294 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
मुशर्रफ ने भारत के खिलाफ उगला जहर, कहा- मैं हाफिज सईद और लश्कर-ए-तैयबा का सबसे बड़ा समर्थक

पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. परवेज मुशर्रफ ने पाकिस्तान के समाचार चैनल पर भारत के खिलाफ उगला जहर
  2. कहा- मैं हाफिज सईद और लश्कर-ए-तैयबा का सबसे बड़ा समर्थक
  3. 'लश्कर ए तैयबा कश्मीर में ही है और यह हमारे और कश्मीर के बीच का मामला है'
नई दिल्ली: पाक के पूर्व तानाशाह परवेज मुशर्रफ ने पाकिस्तान के निजी समाचार चैनल पर खुद को लश्कर ए तैयबा (एलईटी) का सबसे बड़ा समर्थक बताया है. टीवी शो के दौरान उन्होंने मुंबई हमले का मास्टरमाइंड आतंकी हाफिज सईद के बारे में बोलते हुए कहा कि वह मुझे बेहद पसंद है और मैं उससे मिल भी चुका हूं. मुशर्रफ ने आतंकी संगठन जमात-उद-दावा को लेकर यह भी कहा कि न सिर्फ मैं बल्कि वे भी मुझे पसंद करते हैं. यह सभी बातें पाकिस्तान के ARY न्यूज चैनल से बातचीत करते हुए कहा.

पढ़ें: परवेज मुशर्रफ को लगा तगड़ा झटका, 23 दलों का 'महागठबंधन' दूसरे दिन ही बिखरा

टीवी पर दिए गए इंटरव्यू में मुशर्रफ ने यह भी कहा कि कश्मीर में भारतीय सेना को दबाने और एक्शन में रहने का सपोर्ट पहले से करता आया हूं. अमेरिका के साथ मिलकर भारत ने लश्कर-ए-तैयबा को आतंकी घोषित कर दिया, लेकिन यह संगठन सबसे बड़ी फोर्स है. मुशर्रफ ने आग उगलना यही बंद नहीं किया बल्कि यह भी कहा कि जी हां, लश्कर ए तैयबा कश्मीर में ही है और यह हमारे और कश्मीर के बीच का मामला है.

पढ़ें: अब पाक में बनेगी ऐसी राष्ट्रीय सरकार जिसमें कई दल नहीं होंगे मौजूद : मुशर्रफ

पहले भी हाफिज को बताया था हीरो
पाकिस्तान के पूर्व तानाशाह मुशर्रफ इससे पहले भी बड़ा खुलासा कर चुके हैं. पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ ने न सिर्फ ओसामा बिन लादेन, अल जवाहिरी और हक्कानी को पाकिस्तान का हीरो बताया था बल्कि तालिबान और लश्कर-ए-तैयबा जैसे आतंकवादी संगठन को पैसे और ट्रेनिंग की बात भी कबूल चुके हैं. मुशर्रफ ने कश्मीर में आतंकवादी भेजे जाने और उन्हें पाकिस्तान से पूरी मदद का खुलासा भी किया था.

मुशर्रफ पहले भी कर चुके हैं बड़े खुलासे
मुशर्रफ ने कहा था कि 1990 के दशक में कश्मीर में आजादी का संघर्ष शुरू हुआ. उस समय लश्कर-ए-तैयबा और 11 या 12 अन्य संगठन गठित हुए थे. हमने उनका समर्थन किया और उन्हें ट्रेनिंग दी, क्योंकि वे अपनी जिंदगी की कीमत पर कश्मीर में लड़ रहे थे.

पढ़ें: बेनजीर हत्या मामले में मुकदमे का सामना करने को तैयार हैं मुशर्रफ, लौटेंगे पाकिस्तान

धार्मिक आतंकवाद को पालने की बात कबूली
मुशर्रफ पाकिस्तान की सेना प्रमुख भी रहे हैं. उनका खुलासा इसलिए अहम है कि राष्ट्रपति और सेना प्रमुख के तौर पर उन्होंने जो किया वही नहीं बल्कि उससे पहले भी पाकिस्तान जो कुछ करता रहा है उसकी गोपनीय जानकारियां उनके पास हैं. हालांकि मुशर्रफ़ यह भी कबूलते हैं कि पहले जिस धार्मिक आतंकवाद को पाकिस्तान ने पोसा अब वही उसी को काट रहा है.

सत्ता छोड़ने के बाद 4 साल थे देश के बाहर
2008 में सत्ता छोड़ने के बाद मुशर्रफ को तक़रीबन 4 साल देश के बाहर बिताने पड़े. 2013 में वे चुनाव लड़ने के लिए पाकिस्तान लौटे लेकिन उन्हें चुनाव लड़ने के अयोग्य करार दे दिया गया. मुशर्रफ़ बेशक ऐसे बयानों के जरिये पाकिस्तान के कट्टरपंथी तबके में अपने लिए समर्थन जुटाने की कोशिश में जुटे हों, लेकिन उनका ये कच्चा चिठ्ठा पाकिस्तान के इस झूठ को ही बेपर्दा करता है कि आतंकवाद को बढ़ावा देने में उसका कोई हाथ नहीं.

VIDEO: पाकिस्तान ने धार्मिक आतंकवाद को पाला


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement