NDTV Khabar

पाक के पूर्व राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ का सनसनीखेज खुलासा: जैश की मदद से भारत में करवाते थे बम धमाके

पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ (Pervez Musharraf) ने जम्मू-कश्मीर के पुलवामा आतंकी हमले को अंजाम देने वाले आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद को लेकर एक सनसनीखेज खुलासा किया है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
पाक के पूर्व राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ का सनसनीखेज खुलासा: जैश की मदद से भारत में करवाते थे बम धमाके

परवेज मुशर्रफ (Pervez Musharraf), पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति, का जैश पर खुलासा...

खास बातें

  1. पाक के पूर्व राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ ने कबूला जैश है आतंकी संगठन.
  2. भारत में कई धमाके करवाए :पाक के पूर्व राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ
  3. पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी से है गहरा संबंध.
नई दिल्ली:

पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ (Pervez Musharraf) ने जम्मू-कश्मीर के पुलवामा आतंकी हमले को अंजाम देने वाले आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद को लेकर एक सनसनीखेज खुलासा किया है. पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति जनरल परवेज मुशर्रफ ने बुधवार को कहा कि जैश-ए-मोहम्मद एक आतंकी संगठन है और पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी इसका इस्तेमाल कर भारत में कई धमाके करवाए. उन्होंने संकेत दिया कि उनके देश की इंटेलिजेंस ने उनके कार्यकाल में भारत में हमलों को अंजाम देने के लिए इसका इस्तेमाल किया था.

आतंकियों की संख्या पर मचे घमासान के बीच सामने आई 'ऑपरेशन बालाकोट' की पहली तस्वीर

हम न्यूज के पाकिस्तानी पत्रकार नदीम मलिक को दिए टेलीफोनिक इंटरव्यू में परवेज मुशर्रफ ने जैश-ए-मोहम्मद के खिलाफ की जा रही कार्रवाई का स्वागत किया और कहा कि उन्होंने दिसंबर 2003 में जैश पर बैन लगाने की दो बार कोशिश की थी. बता दें कि इस इंटरव्यू का वीडियो क्लिप पाकिस्तानी पत्रकार ने अपने ट्विटर अकाउंट पर डाला है. 


बालाकोट एयर स्ट्राइक पर कांग्रेस को राजनाथ सिंह की दो टूक: तो क्या 300 मोबाइल फोन पेड़ चला रहे थे?

जब उनसे पूछा गया कि आखिर उन्होंने अपने कार्यकाल के दौरान (1999-2008) तक सत्ता में रहे तो जैश पर बैन क्यों नहीं लगा सके. इसके जवाब में परवेज मुशर्रफ ने कहा कि उस वक्त के हालात कुछ और थे. मुशर्रफ ने कहा कि मेरे पास इस सवाल को कोई खास जवाब नहीं है. वह जमाना औऱ था तब इसमें हमारे इंटेलिजेंस वाले शामिल थे. तब भारत औऱ पाकिस्तान के बीच जैसे को तैसा वाला रवैया अपनाया जा रहा था. हम उधर (भारत) करवा रहे थे. उस जमाने में यह सिलसिला चलता रहता था,  तो उस सिलसिले में उन्होंने कोई कार्रवाई नहीं की तो मैंने भी उन पर कोई दवाब नहीं डाला. 

मुशर्रफ ने यह भी कहा कि यह एक अच्छी चाल है. मैंने हमेशा कहा है कि जैश-ए-मोहम्मद एक आतंकी संगठन है और उसने ही मेरी हत्या करने की कोशिश में आत्मघाती हमला किया था. उनके खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए. मुझे खुशी है कि सरकार उनके खिलाफ सख्त रुख अपना रही है. मुशर्रफ ने कहा कि हमलावर ने कुछ सेकंड देर से बटन दबाया और मैंने उस समय तक पुल को पार कर चुका था. मुशर्रफ ने कहा कि जैश के खिलाफ कार्रवाई एक सही कदम है और यह कार्रवाई पहले ही की जाना चाहिए थी. 

टिप्पणियां

बालाकोट ऑपरेशन के बाद भारत पाकिस्तान पर भरपूर दबाव बनाने की कोशिश में जुटा

बता दें कि मसूद अजहर के नतृत्व वाले जैश-ए-मोहम्मद ने भारत में कई आतंकी हमलों को अंजाम दिया है. 14 फरवरी को हुए पुलवामा आतंकी हमले को इसी आतंकी संगठन ने अंजाम दिया था, जिसमें सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गए थे. 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement