PIA Plane Crash: पायलट ने तीन बार नज़रअंदाज़ कर दी थी चेतावनी, रिपोर्ट में खुलासा

शुक्रवार को पाकिस्तान की सरकारी एयरलाइन PIA की फ्लाइट PK-8303 के साथ हुए इस हादसे में 97 लोगों की मौत हो गई थी. यह त्रासदी पाकिस्तान के इतिहास में हुए हवाई दुर्घटनाओं में से एक है.

PIA Plane Crash: पायलट ने तीन बार नज़रअंदाज़ कर दी थी चेतावनी, रिपोर्ट में खुलासा

विमान शुक्रवार को दुर्घटनाग्रस्त हुआ था जिसमें 97 लोगों की मौत हो गई थी.

खास बातें

  • PIA के प्लेन क्रैश में 97 लोगों की गई थी जान
  • रिपोर्ट में खुलासा- पायलट ने इग्नोर की थी वॉर्निंग
  • तीन महीने में आएगी फुल रिपोर्ट
कराची:

पाकिस्तान के कराची में Pakistan International Airlines (PIA) के प्लेन के हुए हादसे की जांच रिपोर्ट में यह बात निकलकर सामने आ रही है कि एयरक्राफ्ट के पायलट को एयर ट्रैफिक कंट्रोलर की ओर से तीन बार चेतावनी दी गई थी लेकिन उसने तीनों बार चेतावनी को नज़रअंदाज कर दिया. सोमवार को इस क्रैश की हो रही जांच को लेकर एक रिपोर्ट आई है, जिसमें बताया गया है कि ATC की ओर से पायलट को प्लेन के एल्टीट्यूड और स्पीड को लेकर तीन बार चेतावनियां दी गईं. लेकिन उसने यह कहते हुए इन्हें नज़रअंदाज़ कर दिया कि वो स्थिति को संभाल लेगा.

शुक्रवार को पाकिस्तान की सरकारी एयरलाइन PIA की फ्लाइट PK-8303 के साथ हुए इस हादसे में 97 लोगों की मौत हो गई थी. यह त्रासदी पाकिस्तान के इतिहास में हुए हवाई दुर्घटनाओं में से एक है.

पायलट को ATC की ओर से मिली थी तीन बार चेतावनी

Geo News ने ATC की रिपोर्ट के हवाले से बताया है कि PIA की यह एयरबस A-320 लाहौर से कराची आ रही थी और हादसे से पहले जिन्ना इंटरनेशनल एयरपोर्ट से 15 नॉटिकल मील की दूरी पर थी. यह प्लेन जमीन से 7,000 एल्टीट्यूड की बजाय 10,000 फीट के एल्टीट्यूड पर उड़ रहा था, जिसे लेकर ATC ने प्लेन की ऊंचाई कम करने की पहली चेतावनी दी.

रिपोर्ट में बताया गया है कि वॉर्निंग मिलने पर पायलट ने कहा कि वो प्लेन की स्थिति से संतुष्ट है. हालांकि, एयरपोर्ट से 10 नॉटिकल मील की दूरी बची रहने के बावजूद भी प्लेन 3,000 फीट की बजाय 7,000 एल्टीट्यूड पर उड़ रहा था. इसके बाद ATC ने प्लेन की ऊंचाई कम करने के लिए पायलट को दूसरी चेतावनी दी. लेकिन रिपोर्ट के मुताबिक, पायलट ने फिर से कहा कि वो स्थिति से संतुष्ट है और प्लेन को लैंड कराने के लिए तैयार है.

रिपोर्ट में पाया गया है कि प्लेन में दो घंटे 34 मिनट की उड़ान भरने जितना ईंधन था और अभी प्लेन ने एक घंटे 34 मिनट की उड़ान ही भरी थी.

पाकिस्तानी जांचकर्ता यह पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं कि क्रैश के पीछे पायलट की गलती थी या फिर कोई तकनीकी गड़बड़ी थी.

इंजन के ऑयल टैंक और फ्यूल पंप को पहुंचा होगा नुकसान

पाकिस्तान के Civil Aviation Authority (CAA) की ओर से तैयार की गई रिपोर्ट में बताया गया है कि लैंड करने की पहली कोशिश में प्लेन के इंजन तीन बार रनवे पर टच हुए थे, जिससे घर्षण पैदा हुआ था और चिंगारियां निकली थीं. ऐसे में एक्सपर्ट का मानना है कि जब पहली बार में लैंडिंग नहीं हुई तो इंजन के ऑयल टैंक और फ्यूल पंप को नुकसान पहुंचा होगा और लीक शुरू हो गया होगा, जिसके चलते पायलट को जरूरी पुश और स्पीड नहीं मिल पाई होगी.

इसमें यह भी कहा गया है कि पायलट ने पहले असफल प्रयास के बाद 'अपनी जिम्मेदारी' पर यह फैसला ले लिया कि लैंडिंग के लिए एक पूरा चक्कर भरकर आएगा, चक्कर भरने के दौरान ही पायलट ने ATC को जानकारी दी कि प्लेन का लैंडिंग गियर काम नहीं कर रहा.

रिपोर्ट में कहा गया है, 'पायलट से ATC की ओर से निर्देश मिले कि वो प्लेन को 3,000 फीट की हाइट पर ले आए, लेकिन वो महज 1800 पर ही आ सकता. जब कॉकपिट को फिर से 3,000 पर जाने के निर्देश दिए गए तो फर्स्ट ऑफिसर की ओर से जवाब आया- हम कोशिशि कर रहे हैं.' एक्सपर्ट्स का मानना है कि निर्देश के हिसाब से दी गई ऊंचाई पर न पहुंच पाने से यह संकेत मिलता है कि इंजन काम नहीं कर रहे थे, जिसके चलते एयरक्राफ्ट गिरने लगा और अचानक क्रैश हो गया.

बता दें कि एयरपोर्ट से बस कुछ ही मिनट की दूरी पर यह प्लेन मलिर के मॉडल कॉलोनी जिन्ना गार्डन इलाके में क्रैश हो गया. इस प्लेन में सवार 97 लोगों की मौत हो गई, वहीं दो लोग चमत्कारिक तौर पर बच गए. जमीन पर मौजूद 11 लोग भी इस हमले में घायल हुए हैं.

Aircraft Accident and Investigation Board के अध्यक्ष मुहम्मद उस्मान गनी की जांच टीम अगले तीन महीनों में केस की फुल रिपोर्ट पेश करेगी. PIA के इंजीनियरिंग एंड मेंटेनेंस डिपार्टमेंट की ओर से बताया गया है कि इस एयरबस की रूटीन जांच 21 मार्च को की गई थी. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

कोविड-19 के चलते पाकिस्तान ने घरेलू-अंतरराष्ट्रीय उड़ानों को बंद कर दिया गया था, जिसे कुछ दिन पहले ही लिमिटेड ऑपरेशन के लिए हटाया गया था. लेकिन इस हादसे के बाद फिर से सेवाएं स्थगित कर दी गई हैं.

वीडियो: PIA फ्लाइट के कॉकपिट से आखिरी पलों के ऑडियो में सुनाई दिया "मेडे, मेडे" का संकट संदेश