पीएम मोदी ने मालदीव को दिया आश्वासन, कहा- घबराइये मत, हम करेंगे आपकी मदद

शनिवार को मालदीव (Maldives) को नए राष्ट्रपति ने पद संभालने के बाद ही राज्य के खजाने में लूट की घोषणा की थी.

पीएम मोदी ने मालदीव को दिया आश्वासन, कहा- घबराइये मत, हम करेंगे आपकी मदद

पीएम मोदी ने दिया मालदीव को भरोसा

खास बातें

  • मालदीव ने किया चीन के हस्तक्षेप का जिक्र
  • नए राष्ट्रपति के शपथ ग्रहण मे गए थे पीएम मोदी
  • राष्ट्रपति ने कहा - हमारी हालत सही नहीं
नई दिल्ली:

पीएम मोदी (PM Modi) ने मालदीव (Maldives) के साथ रिश्तों को और मजबूती देने के लिए एक बार फिर पहल की है. उन्होंने आर्थिक तंगी से जूझ रहे मालदीव को आश्वासन दिया है कि वह उन्हें इस स्थिति से निकालने में उनकी हर संभव मदद करेंगे. पीएम मोदी (PM Modi) ने मालदीव (Maldives) के नए राष्ट्रपति इब्राहिम मोहम्मद सोलिह से इस बाबत बात भी की. खास बात यह है कि शनिवार को मालदीव (Maldives) को नए राष्ट्रपति ने पद संभालने के बाद कहा था कि देश की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं है.उन्होंने कहा था कि जिस तरह से चीन ऋणताओं के साथ बुनियादी ढांचे में उछाल के बाद देश को वित्तीय कठिनाई हो रही है, वह हमारी अर्थव्यस्था के लिए सही नहीं है. 

यह भी पढ़ें: पीएम मोदी आज मालदीव जाएंगे, राष्ट्रपति सोलिह के शपथ ग्रहण समारोह में करेंगे शिरकत

भारतीय विदेश मंत्रालय ने एक बयान जारी कर कहा कि पीएम मोदी ने मालदीव को आर्थिक तंगी से निकालने के लिए राष्ट्रपति को हर संभव मदद की बात कही है. ध्यान हो कि बीते कुछ समय से चीन ने मालदीव में अपनी अपना निवेश बढ़ाया है.चाहे बात रोड बनाने की हो या फिर हाई-वे या होटल, चीन हर क्षेत्र में निवेश के लिए मालदीव में अपना पैसा लगा रहा है. हाल ही में दुनिया में अपने रिसार्ट के लिए जाने जाने वाले पालम फ्रेंड द्वीप पर बड़ी मात्रा में निवेश कर रहा है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

यह भी पढ़ें: मालदीव में ब्रिटिश कालीन मूर्तियों को कुल्हाड़ी से तोड़ा गया, सरकार ने बताई ये वजह

चीन ने यहां घर, होटल और रोड पर बड़े पैमाने पर निवेश किया है. लेकिन इस वजह से चार लाख से ज्यादा लोगों ने  को मालदीव छोड़ना पड़ा. हालांकि उन्होंने मांग की कि इस बात की जांच होनी चाहिए कि आखिर पिछली सरकार के समय में किस आधार पर चीनी कंपनियों को ठेके दिए गए. देश के नए राष्ट्रपति ने अपने शपथ ग्रहण समारोह के दौरान कहा कि देश की वित्तीय स्थिति बेहद खराब है. इसकी एक सबसे बड़ी वजह अपने राजनीतिक फायदे के लिए दिए गए शुरू किए गए प्रोजेक्ट थे. ऐसे प्रोजेक्ट की वजह से हमें काफी नुकसान हुआ.