NDTV Khabar

बंदूक नियंत्रण कानून को सख्त बनाए जाने की मांग को लेकर व्हाइट हाउस के बाहर छात्रों का धरना

सीएनएन के मुताबिक, 'टीन्स फॉर गन रिफॉर्म' नामक समूह के प्रदर्शन के दौरान 17 प्रदर्शनकारी यह दिखाने के लिए सांकेतिक रूप से तीन मिनट तक जमीन पर लेटे रहे कि फ्लोरिडा के मारजोरी स्टोनमैन डगलस हाईस्कूल में स्कूल के ही पूर्व छात्र निकोलस क्रूज ने गोलीबारी कर 17 लोगों को मौत के घाट उतारते में कितना समय लगा था. 

1Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
बंदूक नियंत्रण कानून को सख्त बनाए जाने की मांग को लेकर व्हाइट हाउस के बाहर छात्रों का धरना

फाइल फोटो

नई दिल्ली: व्हाइट हाउस  के बाहर किशोर छात्रों और हजारों की संख्या में मौजूद समर्थकों ने सोमवार को 'प्रेजिडेंट डे' के अवसर पर बंदूक नियंत्रण कानून को सख्त बनाए जाने की मांग को लेकर धरना दिया. सीएनएन के मुताबिक, 'टीन्स फॉर गन रिफॉर्म' नामक समूह के प्रदर्शन के दौरान 17 प्रदर्शनकारी यह दिखाने के लिए सांकेतिक रूप से तीन मिनट तक जमीन पर लेटे रहे कि फ्लोरिडा के मारजोरी स्टोनमैन डगलस हाईस्कूल में स्कूल के ही पूर्व छात्र निकोलस क्रूज ने गोलीबारी कर 17 लोगों को मौत के घाट उतारते में कितना समय लगा था. 

ट्रंप योग्यता आधारित आव्रजन सुधारों के पक्ष में हैं : व्हाइट हाउस

टिप्पणियां
इस विरोध प्रदर्शन के आयोजक छात्र एलेनोर नुएक्टरलेन और व्हाइटनी बोवेन ने सोमवार को जारी बयान में कहा, "पिछले सप्ताह फ्लोरिडा के स्कूल में हुई गोलीबारी के पीड़ितों के प्रति एकजुटता दिखाते हुए हमने इस विरोध प्रदर्शन का आयोजन किया." उन्होंने कहा, "हम अपनी राष्ट्रीय और राजकीय विधायिकाओं से जिम्मेदार ढंग से कदम उठाने और इस तरह की घटनाओं पर लगाम लगाने का आह्वान करते हैं। यह जरूरी है कि हम सभी अपनी कक्षाओं में सुरक्षित महसूस करें."

वीडियो : व्हाइट हाउस में जब पीएम मोदी के स्वागत में हुआ था गरबा

शुरुआत में उन्हें उम्मीद थी कि उनके सिर्फ करीबी 17 दोस्त ही इस प्रदर्शन में शामिल होंगे लेकिन इसकी खबर सोशल मीडिया पर फैलते ही सैकड़ों समर्थक जुट गए.  सीएनएन के मुताबिक, वर्जीनिया से डेमोक्रेटिक सीनेटर बंदूक नियंत्रण के समर्थक डॉन बेयेर ने भी इस प्रदर्शन में हिस्सा लिया. उन्होंने कहा, "मुझे उन पर बहुत गर्व हुआ। ठंड थी, अवकाश का दिन था लेकिन वे पूरी तरह से सक्रिय थे. "
 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
1Share
(यह भी पढ़ें)... ओ जाने वाले हो सके तो भारत लौट के आना...

Advertisement