NDTV Khabar

राहुल गांधी ने अमेरिका में कहा, पीएम मोदी का फोकस सिर्फ बड़े बिजनेस पर, रोजगार देने में सरकार नाकाम

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने अमेरिका के प्रिंसटन यूनिवर्सिटी में कहा कि बेरोजगारी भारत के विकास की राह में बड़ी बाधा है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
राहुल गांधी ने अमेरिका में कहा, पीएम मोदी का फोकस सिर्फ बड़े बिजनेस पर, रोजगार देने में सरकार नाकाम

राहुल गांधी ने कहा कि भारत में ध्रुवीकरण की राजनीति एक बड़ी चुनौती है

खास बातें

  1. 'शिक्षा और स्वास्थ्य पर बहुत ज्यादा खर्च नहीं कर रही है सरकार'
  2. 'रोजाना 30,000 युवा जॉब मार्केट में आते हैं, सिर्फ 450 को रोजगार मिल रहा'
  3. 'बिना रोजगार के युवाओं को कैसे कोई विजन दिया जा सकता है'
प्रिंसटन:

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने अमेरिका के प्रिंसटन यूनिवर्सिटी में छात्रों से रू-ब-रू होते हुए कहा कि बेरोजगारी भारत के विकास की राह में बड़ी बाधा है. बर्कले के बाद यहां भी राहुल गांधी ने मोदी सरकार पर निशाना साधा. राहुल गांधी ने कहा कि शिक्षा और स्वास्थ्य पर बहुत ज्यादा खर्च नहीं किया जा रहा है. रोजगार भारत में सबसे बड़ी चुनौती है. उन्होंने कहा कि अगर एक देश अपने युवाओं को रोजगार नहीं दे पाता है तो वह उसे कोई विजन भी नहीं दे सकता है.

यह भी पढ़ें : अरुण जेटली ने कहा, वंशवाद पर राहुल गांधी के बयान से शर्मिंदा हुआ

उन्होंने कहा कि रोजाना करीब 30,000 युवा जॉब मार्केट में आते हैं, लेकिन आज सिर्फ 450 युवाओं को रोजगार मिल पा रहा है. पीएम मोदी का मेक इन इंडिया प्रोग्राम का फोकस सिर्फ बड़े बिजनेस पर है, लेकिन इसकी बजाय कारोबार को बढ़ावा दिया जाना चाहिए. राहुल गांधी ने कहा कि भारत में ध्रुवीकरण की राजनीति एक बड़ी चुनौती है. राहुल गांधी ने कहा कि चीन की दुनिया की तरफ एक खास दूरदृष्टि है. यह बहुत स्पष्ट है.


यह भी पढ़ें : पूरा भारत ही परिवारवाद से चलता है, सिर्फ मेरे पीछे न पड़ें : राहुल गांधी

टिप्पणियां

उन्होंने सवालिया लहजे में कहा कि क्या भारत के पास भी ऐसी ही दूरदृष्टि है? वह दूरदृष्टि कैसी है? हमारे और उनके बीच कितना सहयोग होने जा रहा है? ये कुछ मूल सवाल हैं? लेकिन जिस बात का पता होना चाहिए वह है कि चीन बड़ी ताकत के साथ आगे बढ़ रहा है.

VIDEO : राहुल ने कहा, पीएम उम्मीदवार बनने को हूं तैयार
कांग्रेस नेता ने कहा कि रोजगार उत्पन्न करने और शिक्षा के क्षेत्र में अमेरिका और भारत के बीच सहयोग के लिए बहुत संभावनाएं हैं.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement