शनि के चंद्रमा 'टाइटन' पर दिखीं पृथ्वी जैसी खासियतें, नए डाटा से हुआ खुलासा

टाइटन पर नए पहाड़ों समेत कई नई स्थलाकृतियों का खुलासा हुआ है. इनमें से कोई पहाड़ 700 मीटर से अधिक की ऊंचाई का नहीं है.

शनि के चंद्रमा 'टाइटन' पर दिखीं पृथ्वी जैसी खासियतें, नए डाटा से हुआ खुलासा

अंतरिक्ष वैज्ञानिकों ने शनि के चंद्रमा टाइटन का एक वैश्विक मानचित्र तैयार किया है

न्यूयॉर्क:

नासा के कसीनी अंतरिक्षयान से प्राप्त डाटा का इस्तेमाल करते हुए अंतरिक्ष वैज्ञानिकों ने शनि के चंद्रमा टाइटन का एक वैश्विक मानचित्र तैयार किया है और पाया कि इसकी भौगोलिक विशेषताएं पृथ्वी से काफी मिलती-जुलती हैं. इस मानचित्र में विभिन्न स्रोतों से जुटाई गई टाइटन की सभी स्थलाकृतियों को शामिल किया गया है. इसमें टाइटन पर नए पहाड़ों समेत कई नई स्थलाकृतियों का खुलासा हुआ. इनमें से कोई पहाड़ 700 मीटर से अधिक की ऊंचाई का नहीं है. यह मानचित्र टाइटन की स्थलाकृतियों की ऊंचाई एवं गहराई का भी वैश्विक चित्रण करता है, जिससे वैज्ञानिक यह पुष्टि कर पाए कि टाइटन के भूमध्यरेखा क्षेत्र में मौजूद दो स्थान वास्तव में गड्ढे हैं, जो संभवत: या तो काफी पुराने हैं या सूखे हुए समुद्र अथवा क्रायोवोल्कैनिक प्रवाह हैं.

यह भी पढ़ें : नासा ने 2020 में धूमकेतु, टाइटन पर भेजे जाने वाले मिशन का चयन किया

इसमें खुलासा हुआ है कि टाइटन के बारे में हमारी पहले की जो समझ थी, उसकी तुलना में यह काफी हद तक चपटा और कहीं अधिक समतल है, साथ ही इसके आवरण की मोटाई में भी पहले की तुलना में अधिक भिन्नता है. यह मानचित्र टाइटन के जलवायु का प्रतिरूपण करने वालों, टाइटन के आकार एवं गुरुत्वाकर्षण के अध्ययन एवं अंदरूनी प्रतिरूपों की जांच के साथ जमीन की आकृति के रूपों का अध्ययन करने की इच्छा रखने वालों के लिए महत्वपूर्ण होगा. अनुसंधानकर्ताओं ने यह भी पाया कि टाइटन के तीन समुद्र समान समतल सतह साझा करते हैं.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

VIDEO : ब्रह्मांड की सबसे ठंडी जगह बनाने में जुटे वैज्ञानिक
इसका तात्पर्य है कि पृथ्वी के महासागर के समान ही समुद्र स्तर का निर्माण करते हैं.

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)