NDTV Khabar

हूती विद्रोहियों ने यमन से रियाद की ओर दागी बैलिस्टिक मिसाइल, सऊदी सेना ने मार गिराया

सऊदी अरब ने संघर्षग्रस्त यमन से छोड़ी गई एक बैलिस्टिक की पहचान कर उसे रियाद में नष्ट कर दिया. मिसाइल का मलबा राजधानी के अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के भीतर गिरा.

563 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
हूती विद्रोहियों ने यमन से रियाद की ओर दागी बैलिस्टिक मिसाइल, सऊदी सेना ने मार गिराया

मिसाइल को किंग खालिद अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट के पास मार गिराया गया. एयरपोर्ट पर सामान्य ढंग से कामकाज हो रहा है

रियाद: सऊदी अरब ने संघर्षग्रस्त यमन से छोड़ी गई एक बैलिस्टिक की पहचान कर उसे रियाद में नष्ट कर दिया. मिसाइल का मलबा राजधानी के अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के भीतर गिरा. हूती विद्रोहियों ने मिसाइल हमले की जिम्मेदारी ली है. सऊदी अरब की राजधानी को निशाना बनाकर किया गया यह पहला हमला है जो यमन में संघर्ष से बढ़ते खतरे को दिखाता है. रियाद में रहने वाले लोगों ने शहर के उत्तर में स्थित किंग खालिद अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के समीप शनिवार को मिसाइल को गिराए जाने के बाद धमाके की तेज आवाज सुनी.

यह भी पढ़ें : ‘मक्का के पास यमन के हूती विद्रोहियों की मिसाइल को मार गिराया गया’

अधिकारियों ने बताया कि इसमें कोई बड़ा नुकसान नहीं हुआ और कोई हताहत नहीं हुआ. सऊदी प्रेस एजेंसी ने गठबंधन के प्रवक्ता तुर्की अल मलिकी के हवाले से कहा कि शनिवार शाम को यमन के क्षेत्र से सऊदी अरब की ओर एक बैलिस्टिक मिसाइल दागी गई. नागरिकों और आबादी वाले इलाकों को निशाना बनाने के लिए मिसाइल दागी गई. मिसाइल के नष्ट किए गए टुकड़े हवाई अड्डे के गैर आबादी वाले इलाके में गिरे और किसी को चोट नहीं पहुंची है. हूती के अल मसीराह टीवी चैनल के अनुसार, हूती विद्रोही हवाई अड्डे को निशाना बना रहे थे. विद्रोहियों ने रियाद से 1,200 किलोमीटर से अधिक दूरी से मिसाइल दागी.

यह भी पढ़ें : सऊदी अरब ने कतर के साथ बातचीत रोकी, तथ्यों को तोड़-मरोड़कर पेश करने का आरोप लगाया

नागरिक उड्डयन अधिकारियों ने बताया कि हवाई अड्डे पर सामान्य ढंग से कामकाज हो रहा है और विमानों का संचालन निर्धारित समय पर किया जा रहा है. हालांकि स्थानीय लोगों ने बताया कि सुरक्षा वाहनों ने कुछ सड़कों को बंद कर दिया. इससे पहले हज यात्रा शुरू होने से पहले जुलाई में यमन से दागी गई एक बैलिस्टिक मिसाइल को मक्का के नजदीक मार गिराया था. ये हमले दिखाते हैं कि वर्ष 2015 में सऊदी नेतृत्व वाले गठबंधन के सैन्य हस्तक्षेप के बाद से यमन में चल रहा युद्ध अपनी सीमा के बाहर भी फैल रहा है.

मिसाइल हमलों के अलावा विद्रोही लगातार सऊदी अरब में घुसपैठ भी करते हैं जिससे संघर्ष के फैलने का खतरा बढ़ गया है. जिज़ान और नजरान प्रांतों में स्कूलों, मस्जिदों और घरों पर हजारों मार्टार और रॉकेट से हमले किए गए. सीमावर्ती शहरों से खाली कराया गया.

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement