मक्का तीर्थयात्रा : सउदी के शाह ने कतर के लिए सीमाएं फिर से खोलने का आदेश दिया

सऊदी अरब, मिस्र, बहरीन और संयुक्त अरब अमीरात ने पांच जून को कतर के साथ राजनयिक एवं कारोबारी संबंध समाप्त कर लिए थे.

मक्का तीर्थयात्रा : सउदी के शाह ने कतर के लिए सीमाएं फिर से खोलने का आदेश दिया

(प्रतीकात्मक तस्वीर)

खास बातें

  • किंग ने पहले कतर के साथ वायु, समुद्री और जमीनी संबंध समाप्त कर दिए थे.
  • 26 लाख की जनसंख्या वाले कतर में 80 प्रतिशत विदेशी रहते हैं.
  • यह प्रति व्यक्ति आय के आधार पर विश्व में सबसे अमीर देश है.
रियाद:

मक्का हज यात्रा को देखते हुए सउदी के शाह ने अपनी देश की सीमाऐ एक वार फिर कतर के लिए खोलने की मंजूरी दी है. सउदी अरब के शाह सलमान ने कतर के साथ लगती अपनी सीमाएं फिर से खोलने का आदेश दिया है ताकि तीर्थयात्री मक्का की अपनी सालाना हज यात्रा कर सकें. आधिकारिक सरकारी मीडिया ने आज यह जानकारी दी. सउदी अरब, मिस्र, बहरीन और संयुक्त अरब अमीरात ने पांच जून को कतर के साथ राजनयिक एवं कारोबारी संबंध समाप्त कर लिए थे. तब से शुरू हुए राजनयिक संकट के बीच यह निर्णय बहुत अहम है.

‘सउदी न्यूज एजेंसी’ के बयान के अनुसार सऊदी अरब के शहजादे मोहम्मद बिन सलमान और दोहा के दूत के बीच मुलाकात के बाद सीमा संबंधी यह निर्णय लिया गया.

यह भी पढे़ं : हज आवेदन प्रक्रिया होगी डिजिटल, केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने मोबाइल ऐप किया शुरू

शाह ने आदेश दिया है कि कतर के तीर्थयात्रियों को ‘तीर्थयात्रा करने के लिए सीमा पार करके सउदी अरब में प्रवेश की’’ अनुमति होगी. उन्होंने यह भी आदेश दिया था कि सउदी विमानन कंपनी के निजी विमानों को दोहा हवाईअड्डा भेजा जाए ताकि ‘‘सभी कतरी तीर्थयात्रियों को उसके खर्चे पर लाया जा सके’.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

बयान में कहा गया कि शहजादे ने ‘‘सउदी एवं कतर के लोगों और सऊदी नेतृत्व एवं कतर में शाही परिवार के बीच ऐतिहासिक संबंधों’’ पर बल दिया. कतर के प्राधिकारियों ने सउदी अरब पर पिछले महीने आरोप लगाया था कि उसने तीर्थयात्रियों की सुरक्षा की गारंटी देने से इनकार करके मक्का की यात्रा को खतरे में डाल दिया है.

VIDEO : 2007 मक्‍का मस्जिद ब्‍लास्‍ट केस : स्‍वामी असीमानंद को मिली जमानत​

सउदी अरब और उसके अरब सहयोगियों ने दोहा पर ‘आतंकवादियों’ का समर्थन करने और ईरान के बहुत करीब होने का आरोप लगाते हुए कतर के साथ वायु, समुद्री और जमीनी संबंध समाप्त कर दिए थे और उस पर आर्थिक प्रतिबंध लगाए थे.