NDTV Khabar

शनि के सबसे बड़े उपग्रह टाइटन पर जीवन होने के संकेत

ब्रिटेन स्थित यूनिवर्सिटी कॉलेज लंदन के वैज्ञानिकों ने कैसिनी मिशन के आंकड़ों का इस्तेमाल करते हुए टाइटन के वायुमंडल में ऋणात्मक आवेश वाले अणुओं 'कार्बन चेन एनायन्स' की पहचान की है.

16 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
शनि के सबसे बड़े उपग्रह टाइटन पर जीवन होने के संकेत

प्रतीकात्मक फोटो.

खास बातें

  1. भारतीय मूल के शोधकर्ता भी थे शोध में शामिल
  2. ब्रिटेन स्थित यूनिवर्सिटी कॉलेज लंदन के वैज्ञानिकों ने किया शोध
  3. पहली बार ग्रह जैसे वायुमंडल में कार्बन श्रृंखला ऋणायनों की पहचान
लंदन: भारतीय मूल के अनुसंधानकर्ता के नेतृत्व वाली एक टीम ने शनि ग्रह के सबसे बड़े उपग्रह टाइटन के ऊपरी वायुमंडल में जीवन से जुड़े एक महत्वपूर्ण कारक की खोज की है. ब्रिटेन स्थित यूनिवर्सिटी कॉलेज लंदन (यूसीएल) के वैज्ञानिकों ने कैसिनी मिशन के आंकड़ों का इस्तेमाल करते हुए टाइटन के वायुमंडल में ऋणात्मक आवेश वाले अणुओं 'कार्बन चेन एनायन्स' की पहचान की है. ऐसा माना जाता है कि इन रैखिक अणुओं की भूमिका अधिक जटिल अणुओं के निर्माण में होती है और संभवत: यह पृथ्वी पर जीवन के आरंभिक स्वरूपों के लिए आधार के तौर पर काम कर चुका है.

यह भी पढ़ें: शनि ग्रह के चंद्रमा पर समुद्र की तलहटी में मौजूद हो सकते हैं 'एलियन'...

शोधकर्ताओं ने कहा है कि ऋणात्मक आवेश वाले कार्बन श्रृंखला के ऋणायनों की खोज आश्चर्यजनक है, क्योंकि यह बेहद क्रियाशील होते हैं. साथ ही अन्य पदार्थों के साथ संयोजन स्थापित करने से पहले वे टाइटन के वायुमंडल में इतने लंबे समय तक अपने मूल स्वरूप में नहीं रह सकते. इस तरह अब इस उपग्रह के वायुमंडल को लेकर वर्तमान समझ पूर्ण रूप से बदल रही है.

यह भी पढ़ें: शनि के चंद्रमा अनुमान से कहीं अधिक युवा हैं : अध्ययन

आंकड़ों से पता चला है कि यह कार्बन श्रृंखलाएं उस उपग्रह के नजदीक आने पर टूटने लगती हैं, जब वृहद आकार वाले ऐरोसोल अणुओं के पूर्ववर्तियों में तीव्र गति से वृद्धि होती है. यह दोनों के बीच करीबी संबंध की ओर इशारा करता है. इसमें कार्बन श्रृंखलाएं बड़े अणु बनाती हैं, जो संभवत: गिरकर सतह पर जम जाते हैं.

वीडियो देखें : इसरो ने लॉन्च किया पीएसएलवी सी-38, सरहद पर रखेगा नजर



अहम उपलब्धि
यूसीएल में पीएचडी (शोध) के छात्र रवि देसाई ने कहा, हमने पहली बार किसी ग्रह जैसे वायुमंडल में कार्बन श्रृंखला ऋणायनों की पहचान की है. हमें लगता है कि यह उपग्रह के बड़े आकार वाले धुंधले कणों के जैसे अत्यधिक जटिल कार्बनिक अणुओं के निर्माण के क्षेत्र में अहम उपलब्धि है. 
 

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement