धरती पर लौट रहा SpaceX Crew Dragon, फ्लोरिडा में तूफान की चेतावनी के बावजूद शुरू की अपनी यात्रा

नासा के दो अंतरिक्ष यात्रियों को लेकर गया स्पेसएक्स का ड्रैगन कैप्सूल 31 मई को सफलता पूर्वक अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन (International Space Station) से जुड़ गया था.

धरती पर लौट रहा SpaceX Crew Dragon, फ्लोरिडा में तूफान की चेतावनी के बावजूद शुरू की अपनी यात्रा

वॉशिंगटन:

नासा (NASA) के दो अंतरिक्ष यात्रियों को लेकर गया स्पेसएक्स का ड्रैगन कैप्सूल आज धरती पर लौट रहा है. शनिवार को स्पेसएक्स ने अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन (International Space Station)छोड़ दिया है  और फ्लोरिडा में तूफान की चेतावनी के बावजूद पृथ्वी की ओर अपनी यात्रा शुरू कर दी है. नासा से फुटेज में दिख रहा है कि कैसे कैप्सूल धीरे-धीरे इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन छोड़ रहा है. एक दशक में पहले अमेरिकी अंतरिक्ष यात्रियों द्वारा अमेरिकी अंतरिक्ष यान द्वारा ऑर्बिटिंग लैब तक पहुंचने का करीब दो महीने का सफर समाप्त हो रहा है.


नासा के दो अंतरिक्ष यात्रियों को लेकर गया स्पेसएक्स का ड्रैगन कैप्सूल 31 मई को सफलता पूर्वक अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन (International Space Station) से जुड़ गया था. "सॉफ्ट कैप्चर," वह क्षण जब अंतरिक्ष यान पहला संपर्क करता है और लक्ष्य वाहन के साथ लैचिंग होती है.

स्पेसएक्स के दो-चरण वाले फाल्कन 9 रॉकेट को फ्लोरिडा के केनेडी स्पेस सेंटर से 30 मई को दोपहर बाद 3:22 बजे (1922 जीएमटी) पर छोड़ा गया था. अंतरिक्ष यात्रियों रॉबर्ट बेहानकेन और डगलस हर्ले को क्रू ड्रैगन कैप्सूल में उतारा गया. स्पेसएक्स फाल्कन 9 रॉकेट (Falcon 9 rocket) नासा के दोनों दिग्गज अंतरिक्ष यात्रियों को लेकर प्राइवेट फर्म की इस ऐतिहासिक पहली अंतरिक्ष यात्रा पर शनिवार को रवाना हुआ था.

यह भी पढ़ें- अहमदाबाद के हैम रेडियो ऑपरेटर को SpaceX एस्ट्रोनॉट्स से मिले संकेत

सन 2011 में अंतरिक्ष शटल कार्यक्रम खत्म होने के बाद से अमेरिका की धरती से इस पहली क्रू फ्लाइट की रवानगी वास्तव को 27 मई को निर्धारित की गई थी, लेकिन मौसम अनुकूल न होने के कारण इसमें देरी हुई. इसके बाद लॉन्चिंग का समय 30 मई को दोपहर 3:22 बजे (1922 GMT) लॉन्चिंग से पहले तक अनिश्चित ही बना रहा.

Newsbeep

इस प्रक्षेपण के साथ ही स्पेसएक्स पहली निजी कंपनी बन गई है जिसने मनुष्य को कक्षा में भेजा हो. इससे पहले केवल तीन सरकारों - अमेरिका, रूस और चीन को यह उपलब्धि हासिल है. फिर से इस्तेमाल हो सकने वाले, गमड्रॉप (कैंडी) आकार के इस यान का नाम क्रू ड्रैगन है जो अब अमेरिकी अंतरिक्ष यात्रियों को अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष केंद्र के 19 घंटे के सफर पर ले गया.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


 



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)