NDTV Khabar

श्रीलंका के उप रक्षामंत्री का दावा : न्यूजीलैंड के 'क्राइस्टचर्च का बदला' लेने के लिए हुए कोलंबो में बम धमाके

इसी साल 15 मार्च को न्यूजीलैंड के क्राइस्टचर्च में दो मस्जिदों में गोलीबारी हुई थी जिसमें 15 लोगों की मौत हो गई थी. 

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
श्रीलंका के उप रक्षामंत्री का दावा : न्यूजीलैंड के 'क्राइस्टचर्च का बदला' लेने के लिए हुए कोलंबो में बम धमाके

श्रीलंका में बम धमाकों में 300 से ज्यादा की मौत हुई है.

नई दिल्ली:

न्यूजीलैंड के शहर क्राइस्टचर्च  में मुस्लिमों पर हुए हमले का बदला लेने के लिए श्रीलंका की राजधानी कोलंबो में धमाके किए गए हैं. यह बात शुरुआती जांच में सामने आई है. इस बात की जानकारी श्रीलंका के उप रक्षामंत्री ने दी है. उन्होंने कहा, जो भी श्रीलंका में हुआ उसके पीछे क्राइस्टचर्च में मुस्लिम पर हुआ हमला है'.  श्रीलंका सरकार ने कहा है कि ईस्टर के मौके पर रविवार को देश में हुए सिलसिलेवार बम धमाकों की वजह से हुई विनाश की घटना कल्पना से परे थी और खुफिया जानकारी पहले मिल जाने के बावजूद देश में बड़ी संख्या में मौजूद गिरजाघरों को सुरक्षा प्रदान करना तकरीबन ‘असंभव' था। इन हमलों में आठ भारतीयों समेत 310 लोगों की मौत हो गई. देश के रक्षा मंत्री हेमासिरी फर्नांडो ने मंगलवार को स्थानीय मीडिया से यह बात कही. माना जा रहा है कि सात आत्मघाती हमलावरों ने इन हमलों को अंजाम दिया. इनका संबंध स्थानीय कट्टर इस्लामिक संगठन नेशनल तौहीद जमात (एनटीजे) से माना जा रहा है. हालांकि किसी समूह ने सीधे इसकी जिम्मेदारी नहीं ली है. फर्नांडो ने कहा कि, ‘‘इन हमलों की जानकारी पहले मिल जाने के बाद भी गत रविवार को इतनी अधिक संख्या में मौजूद चर्चों को सुरक्षा प्रदान करना असंभव था.'' उन्होंने संडे टाइम्स से कहा कि सरकार ने कल्पना नहीं की थी कि इतने बड़े पैमाने पर हमले को अंजाम दिया जायेगा. फर्नांडो ने कहा कि देश की खुफिया एजेंसियों ने सरकार को पहले ही सूचित कर दिया था कि देश में एक छोटा लेकिन ताकतवर आपराधिक समूह सक्रिय है. 

श्रीलंका: सीरियल धमाकों के बाद अब कोलंबो एयरपोर्ट पर पाइप बम मिला, एयरफोर्स ने किया निष्क्रिय


टिप्पणियां

मृतकों में सर्वाधिक भारतीय
श्रीलंका में रविवार को ईस्टर के मौके पर हुए सिलसिलेवार बम धमाकों में मारे गये 31 विदेशी नागरिकों में सबसे अधिक आठ लोग भारत से शामिल हैं. श्रीलंका के विदेश मंत्रालय ने सोमवार को यह जानकारी दी.  मंत्रालय ने बयान में कहा कि हमले में मारे गये विदेशी नागरिकों में भारत के आठ, ब्रिटेन के सात, चीन, सउदी अरब और तुर्की के दो-दो तथा फ्रांस, जापान, बांग्लादेश, नीदरलैंड और स्पेन के एक-एक नागरिक शामिल हैं. इनके अलावा दो लोग अमेरिका और ब्रिटेन की दोहरी नागरिकता वाले तथा आस्ट्रेलिया और श्रीलंका की दोहरी नागरिकता वाले दो लोग भी शामिल हैं.

श्रीलंका हमले के बाद गोवा में सुरक्षा कड़ी



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement