NDTV Khabar

पाकिस्तान में 'वन नेशन वन इलेक्शन' पर रिजल्ट का टेंशन

पाकिस्तान चुनाव में बड़े पैमाने पर धांधली के आरोप लग रहे हैं. न सिर्फ नवाज शरीफ की पार्टी पीएमएल-एन बल्कि जरदारी भुट्टो की पार्टी पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी और अन्य पार्टियां सब मिलकर धोखाधड़ी का आरोप लगा रही हैं

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
पाकिस्तान में 'वन नेशन वन इलेक्शन' पर रिजल्ट का टेंशन

प्रतीकात्मक तस्वीर

नई दिल्ली: पाकिस्तान चुनाव में बड़े पैमाने पर धांधली के आरोप लग रहे हैं. न सिर्फ नवाज शरीफ की पार्टी पीएमएल-एन बल्कि जरदारी भुट्टो की पार्टी पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी और अन्य पार्टियां सब मिलकर धोखाधड़ी का आरोप लगा रही हैं. इन में सबसे ज्यादा मुखर पीएमएल-एन रही और शुरू से ही वह धांधली के लिए सेना को जिम्मेदार मानती रही है. लंदन से वापसी के पहले नवाज शरीफ ने आरोप लगाया कि उनकी पार्टी को तोड़ने की कोशिश हो रही है. उनके उम्मीदवारों से शेर का चुनाव चिन्ह लेकर उनको जीप जैसा चुनाव चिह्न दिया जा रहा है.

पाकिस्‍तान चुनाव: मशहूर क्रिकेटर से नेता बने इमरान खान को विरोधी कहते हैं 'तालिबान खान', 8 बातें

उन्हें पार्टी बदलने के लिए दबाव डाला जा रहा है. उन्हें पीएमएल-एन का टिकट वापस करने के लिए मजबूर किया जा रहा है और इन सब आरोपों को लगाते हुए नवाज शरीफ अपनी बेटी मरियम नवाज के साथ पाकिस्तान इसलिए लौटे ताकि अपनी पार्टी में जान फूंक सकें. सहानुभूति का फैक्टर बहुत ज्यादा काम करता नजर तो नहीं आ रहा, लेकिन जिस तरह के नतीजे आ रहे हैं उससे पीएमएल-एन को अपने आरोप लगाने और दोहराने का फिर से मौका मिल गया है. वोटिंग के दौरान तमाम पार्टियों ने प्रोसेस को स्लो करने का आरोप लगाया और वोटिंग टाइम बढ़ाने की मांग की. हालांकि यह मांग नहीं मानी गई फिर विवाद काउंटिंग को लेकर शुरू हुआ. पीएमएल-एन और दूसरी विपक्षी पार्टियों की तरफ से यह कहा जा रहा है कि उनके पोलिंग एजेंट को जबरदस्ती काउंटिंग सेंटर से बाहर निकाल दिया गया. ताकि गिनती में हेराफेरी की जा सके.

यहां तक कि जीते हुए उम्मीदवारों को भी जीत का सर्टिफिकेट नहीं दिया गया. कम से कम 30 सीटों के नतीजे रोक कर रखे गए. जिन सीटों पर जीत का मार्जिन या लीड का मार्जिन काफी ज्यादा हो गया था और जहां पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ के उम्मीदवार हार रहे थे. उन जगहों पर नतीजे रोके गए. हालांकि छोटी-छोटी पार्टियों के उम्मीदवार जहां जीते, वहां उन्हें सर्टिफिकेट दे दिया गया. इस उम्मीद में कि वह कल को इमरान के साथ मिलकर सत्ता में शामिल हों, इमरान की सरकार बनाने में मदद करें, अगर कुछ सीटें कम रह जाती हैं तो.

Pakistan Election Results 2018 LIVE UPDATES: इमरान खान की PTI बनी सबसे बड़ी पार्टी, पर PM बनने के लिए करना होगा 'गठबंधन'

तमाम धांधली के बीच गौर करने की बात यह है कि पाकिस्तान में प्रांतीय और नेशनल असेंबली के चुनाव एक साथ होते हैं. 2008 में भी हुआ. 2013 में भी और अब 2018 में भी यानी पाकिस्तान वन नेशन वन इलेक्शन के फार्मूले पर लंबे समय से चल रहा है. जहां राज्य और केंद्र दोनों सरकारों के लिए एक साथ वोटिंग होती है. भारत में भी वन नेशन वन इलेक्शन को लेकर बहस तेज होती जा रही है. हालांकि पाकिस्तान के मुकाबले भारत बहुत ज्यादा बड़ा देश है जहां 29 राज्य हैं और इन तमाम राज्यों और केंद्र के चुनाव के बीच भारत में बिठाना आसान नहीं. कई तरह के व्यवहारिक दिक्कतें हैं जिन पर बहस और विमर्श जारी है. कई राजनीतिक पार्टियां सिद्धांतत: इसके पक्ष में होते हुए भी व्यवहारिकता की वजह से इसका समर्थन नहीं कर पा रही तो कांग्रेस जैसी पार्टी तो बिल्कुल इसके उलट है. 

टिप्पणियां
भारत के पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त एस वाई कुरैशी पाकिस्तान में आब्जर्वर के तौर पर गए हैं. जाहिर है वन नेशन वन इलेक्शन की चर्चाओं के बीच उनकी निगाह इस बात पर जरूर होगी कि पाकिस्तान किस तरह से एक साथ दोनों चुनाव कराता है. पाकिस्तान में बेशक तमाम गड़बड़ियां हो लेकिन अगर वन नेशन वन इलेक्शन को लेकर उस मुल्क से कुछ सीखा जा सकता है तो यह शायद अपने यहां भी इसे लागू करने में एक मदद जैसी होगी.

VIDEO: पीएम पद की ओर इमरान खान के बढ़ते कदम, गिनती जारी, नतीजों का इंतजार


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement