NDTV Khabar

नाइजीरिया में आतंकी हमले में एक भारतीय सहित 180 की मौत

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां

खास बातें

  1. नाइजीरिया के उत्तरी शहर कानो में आतंकी हमले में एक भारतीय की मौत हो गई और छह अन्य भारतीय घायल हो गए। हमले में मरने वालों की संख्या 180 हो गई है।
अबुजा:

नाइजीरिया के उत्तरी शहर कानो में एक इस्लामी कट्टरपंथी संगठन द्वारा किए गए हमलों में एक भारतीय की मौत हो गई है और दो बच्चों सहित छह भारतीय घायल हो गए हैं। इसके साथ ही इस हमले में मृतकों की संख्या बढ़कर कम से कम 180हो गई है।

समाचार एजेंसी आरआईए नोवोस्ती के अनुसार, बोको हरम सम्प्रदाय द्वारा शुक्रवार शाम नाइजीरिया के दूसरे सबसे बड़े शहर कानो में किए गए इन हमलों में कई पुलिस थानों, बैरकों और आव्रजन कार्यालयों को निशाना बनाया गया। उसके बाद आतंकवादियों और सुरक्षा बलों के बीच मुठभेड़ शुरू हो गई। नाइजीरिया स्थित भारतीय उच्चायोग ने कहा है कि केवलकुमार कालीदास राजपूत (23) की आतंकवादी हमले में मौत हो गई है। गुजरात से संबंध रखने वाले राजपूत कानो स्थित कम्पनी, मेसर्स रेलकेम में मार्च, 2011 से कार्यरत थे।

एक प्रेस विज्ञप्ति में कहा गया है कि राजपूत और उसके दो अन्य सहकर्मियों, हरि प्रसाद भुसाल और राज सिंह (दोनों नेपाली नागरिक) की उस समय मौत हो गई, जब उनकी कार हिंसाग्रस्त इलाके में प्रवेश कर गई। इसके अलावा दो बच्चों सहित छह भारतीय छर्रों और मलबे की चपेट में आने से घायल हो गए। उन्हें कानो अस्पताल में भर्ती कराया गया है।


टिप्पणियां

समाचार पत्र 'द टेलीग्राफ' ने शनिवार को कानो के मुख्य शव गृह के एक अधिकारी के हवाले से कहा है, "फिलहाल शव गृह में 162 शव हैं, और यह आंकड़ा बढ़ सकता है क्योंकि अभी भी शवों को लाए जाने का सिलसिला जारी है।" इसके पहले कानो के अधिकारियों ने मृतकों की संख्या लगभग 150 बताई थी। कानो में शनिवार शाम 24 घंटे के लिए कर्फ्यू लागू कर दिया गया, जहां राहत एवं तलाशी अभियान जारी है। नाइजीरिया ने पड़ोसी देशों, कैमरून और नाइजर के साथ अपनी सीमाएं बंद कर दी है। उसने कहा है कि ये देश आतंकवादियों को नाइजीरिया में घुसपैठ की छूट देते हैं।

समझा जाता है कि यह हमला खतरनाक बोको हरम के सदस्यों की करतूत है। बोको हरम अलकायदा के साथ अपने संबंधों के लिए कुख्यात है। बोको हरम देश के ईसाई बाहुल्य दक्षिणी हिस्से और मुस्लिम बाहुल्य उत्तरी हिस्से सहित पूरे नाइजीरिया में शरिया कानून लागू करने की मांग कर रहा है। बोको हरम के प्रवक्ता अबुल काका ने संवाददाताओं से कहा कि राज्य सरकार द्वारा बोको हरम के सदस्यों को जेल से रिहा करने से इनकार करने के प्रतिक्रियास्वरूप यह हमला किया गया है।



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement