NDTV Khabar

बुलेट-प्रुफ 'जैकेट' पहनने पर पुलिस ने ब्रिटिश पत्रकार को किया गिरफ्तार

मोसुल में सैनिक इस्लामिक स्टेट समूह के खिलाफ जंग लड़ रहे हैं. दुनियाभर में रिपोर्टर गैस मास्कों एवं बैलिस्टिक सुरक्षात्मक कवच का इस्तेमाल करते हैं, लेकिन थाईलैंड में इसे युद्ध हथियार में वर्गीकृत किया गया है और इसके लिये लाइसेंस आवश्यक होता है.

3 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
बुलेट-प्रुफ 'जैकेट' पहनने पर पुलिस ने ब्रिटिश पत्रकार को किया गिरफ्तार

पत्रकारों को हो सकती है पांच साल तक की जेल. तस्वीर: प्रतीकात्मक

खास बातें

  1. थाईलैंड के हवाई अड्डे पर ब्रिटिश पत्रकार गिरफ्तार
  2. गैस मास्क और बुलेट-प्रुफ जैकेट पहनने पर गिरफ्तारी
  3. ब्रितानी पत्रकार पर कानून उल्लंघन का आरोप
बैंकॉक: थाईलैंड के मुख्य हवाईअड्डा पर एक ब्रितानी पत्रकार को इसलिए गिरफ्तार कर लिया गया, क्योंकि उसने गैस मास्क और बुलेट-प्रुफ जैकेटनुमा कवच धारण किया हुआ था. पत्रकार को जेल भेज दिया गया है. पुलिस ने बताया कि ऐसा कर ब्रितानी पत्रकार ने कानून का उल्लंघन किया था, क्योंकि थाईलैंड के कानून में सुरक्षात्मक आवरण को युद्ध हथियार के रूप में वर्गीकृत किया गया है. एंथनी चेंग चीन के सरकारी प्रसारक सीसीटीवी के लिये काम करते हैं.

उन्हें बैंकॉक के सुवर्णभूमि हवाईअड्डा पर सोमवार रात युद्धग्रस्त इराकी शहर मोसुल में रिपोर्ट के लिये जाने के दौरान हिरासत में लिया गया था. मोसुल में सैनिक इस्लामिक स्टेट समूह के खिलाफ जंग लड़ रहे हैं. दुनियाभर में रिपोर्टर गैस मास्कों एवं बैलिस्टिक सुरक्षात्मक कवच का इस्तेमाल करते हैं, लेकिन थाईलैंड में इसे युद्ध हथियार में वर्गीकृत किया गया है और इसके लिये लाइसेंस आवश्यक होता है.

थाईलैंड के कानून के मुताबिक, इसके लिए पांच साल तक की जेल की सजा का भी प्रावधान है. हवाईअड्डा के पुलिसकर्मी सोमचार्ट मनीरत ने मंगलवार को बताया, एक ब्रितानी नागरिक को गिरफ्तार किया गया है और उन पर बीती रात हवाईअड्डा पर गैर कानूनी हथियार रखने का आरोप है. अधिकारी ने बताया कि ब्रितानी नागरिक के जर्मन सहकर्मी को भी हिरासत में लिया गया है.

मीडिया समूहों ने लगातार थाई कानून की आलोचना की है और कहा कि खतरनाक क्षेत्रों में जाने और आने के दौरान पत्रकारों को सुरक्षात्मक कवचनुमा आवरण धारण करने के लिये सजा नहीं देनी चाहिए. कल चेंग ने हवाईअड्डा के हिरासत प्रकोष्ठ की एक तस्वीर फेसबुक पर पोस्ट की थी.

पत्रकार ने लिखा, मुझे नहीं पता था कि इन चीजों की गिनती युद्ध हथियारों में होती है. सैन्य शासन प्रवक्ता मेजर जनरल वेराकॉन सुखानहापट्टिपक ने बताया, जिन पत्रकारों को लगता है कि इन्हें धारण करना आवश्यक है तो वे यात्रा से पहले संबंधित अधिकारियों को इस बारे में सूचित करते हैं या उनसे संपर्क कर सकते हैं.

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement