NDTV Khabar

पाक पीएम इमरान खान के इस्तीफे की मोहलत समाप्त, प्रदर्शनकारियों ने दी देश बंद की धमकी

प्रदर्शनकारियों का नेतृत्व कर रहे धर्मगुरु एवं जमीयत उलेमा ए इस्लाम फज़ल (जेयूआई-एफ) के प्रमुख मौलाना फजलुर रहमान ने दो दिवसीय समयसीमा समाप्त होने के बाद एक प्रदर्शन रैली को संबोधित करते हुए कहा कि उद्देश्य पूरा होने तक प्रदर्शन जारी रहेगा.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
पाक पीएम इमरान खान के इस्तीफे की मोहलत समाप्त, प्रदर्शनकारियों ने दी देश बंद की धमकी

पाकिस्तान के पीएम इमरान खान (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. पीएम खान के खिलाफ पिछले सप्ताह से लगातार हो रहा है प्रदर्शन
  2. इस्तीफे मांग को लेकर सड़को पर जमा है पूरा विपक्ष
  3. इस्तीफे नहीं देने पर पूरा देश बंद करने की दी धमकी
इस्लामाबाद:

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के खिलाफ हो रहे प्रदर्शन लगातार जारी है. पीएम इमरान खान के इस्तीफे की मांग कर रहे प्रदर्शनकारियों ने उन्हें इस्तीफे देने के लिए जो समयसीमा दी थी वह रविवार को समाप्त हो गई है. अब प्रदर्शनकारियों ने पूरे देश को बंद करने की धमकी दी है. प्रदर्शनकारियों का नेतृत्व कर रहे धर्मगुरु एवं जमीयत उलेमा ए इस्लाम फज़ल (जेयूआई-एफ) के प्रमुख मौलाना फजलुर रहमान ने दो दिवसीय समयसीमा समाप्त होने के बाद एक प्रदर्शन रैली को संबोधित करते हुए कहा कि उद्देश्य पूरा होने तक प्रदर्शन जारी रहेगा.

पाकिस्तान के PM इमरान खान बोले- सिख श्रद्धालुओं के स्वागत के लिए तैयार है करतारपुर, तस्वीरें भी की शेयर

उन्होंने कहा, ‘यह साफ है कि शासक (इमरान खान) को जाना होगा और लोगों को निष्पक्ष चुनाव के जरिए नया शासक चुनने का मौका देना होगा. यह स्पष्ट है कि इससे अलावा और कोई विकल्प नहीं है.' रहमान ने कहा, ‘अभी इस्लामाबाद बंद है, फिर हम पूरा देश बंद करेंगे. हम रुकेंगे नहीं और अपना संघर्ष जारी रखेंगे.' इसके साथ ही उन्होंने कहा कि वह सोमवार को विपक्ष के अन्य नेताओं से मुलाकात की योजना बना रहे हैं ताकि आगे के कदम के बारे में सर्वसम्मति से फैसला किया जा सके. उन्होंने कहा, ‘यह आंदोलन और लोगों की भीड़ इमरान खान को सत्ता से बाहर करने तक बनी रहेगी.' 


पाक PM इमरान खान का न्योता सिद्धू ने स्वीकारा, पत्नी नवजोत कौर बोलीं- क्लियरेंस मिला तो वह जरूर जाएंगे करतारपुर

टिप्पणियां

बता दें, मौलाना फजलुर रहमान ने खान पर इस्तीफे का दबाव बनाने के लिए पिछले सप्ताह इस्लामाबाद तक अपने समर्थकों के ‘आजादी मार्च' का नेतृत्व किया था. उन्होंने खान को ‘अवैध' शासक बताया था. रहमान ने प्रधानमंत्री खान के पद छोड़ने के लिए रविवार तक की समयसीमा दी थी. रहमान का दावा है कि 2018 में हुए चुनाव में धांधली हुई थी और पाकिस्तान की शक्तिशाली सेना ने खान को समर्थन दिया था. हालांकि सेना ने इन आरोपों से इनकार किया है. वहीं पीएम इमरान खान ने कहा कि उनकी इस्तीफा देने की कोई योजना नहीं है. इस बीच सरकार ने राजधानी में शांति बनाए रखने के लिए सुरक्षा के व्यापक प्रबंध किए है. 

VIDEO: 9 नवंबर से खुलेगा करतारपुर साहिब का रास्ता



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement