NDTV Khabar

उत्तर कोरिया से पैदा हो रहा खतरा अब नए चरण में प्रवेश कर रहा है : जापानी पीएम शिंजो आबे

अाबे ने ‘सीएनबीसी’ को एक साक्षात्कार में कहा, ‘किम जोंग उन के शासन में, केवल पिछले एक साल से उन्होंने 20 से अधिक बैलिस्टिक मिसाइल प्रक्षेपित की हैं जो किम जोंग इल के शासन के दौरान प्रक्षेपित की गई बैलिस्टिक मिसाइल की कुल संख्या से भी अधिक है.’

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
उत्तर कोरिया से पैदा हो रहा खतरा अब नए चरण में प्रवेश कर रहा है : जापानी पीएम शिंजो आबे

शिंजो अाबे की तस्वीर

खास बातें

  1. उत्तर कोरिया के मिसाइल एवं परमाणु कार्यक्रम से पैदा हो रहा खतरा
  2. राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि सभी विकल्पों पर चर्चा हो रही है
  3. इस हालात में सुधार के लिए कूटनीतिक एवं शांतिपूर्ण तरीके अपनाने की कोशिश
वाशिंगटन: किम जोंग उन के शासन के खिलाफ अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के कड़े रख की प्रशंसा करते हुए जापान के प्रधानमंत्री शिंजो अाबे ने कहा है कि उत्तर कोरिया के मिसाइल एवं परमाणु कार्यक्रम से पैदा हो रहा खतरा नए चरण में प्रवेश कर रहा है.
अाबे के अनुसार, कुछ वषरें से, ओबामा प्रशासन के समय से अंतरराष्ट्रीय समुदाय ने दबाव बढ़ाया है लेकिन उत्तर कोरिया ने परमाणु विकास की अपनी महत्वाकांक्षा कभी नहीं छोड़ी.

अाबे ने ‘सीएनबीसी’ को एक साक्षात्कार में कहा, ‘किम जोंग उन के शासन में, केवल पिछले एक साल से उन्होंने 20 से अधिक बैलिस्टिक मिसाइल प्रक्षेपित की हैं जो किम जोंग इल के शासन के दौरान प्रक्षेपित की गई बैलिस्टिक मिसाइल की कुल संख्या से भी अधिक है.’ उन्होंने कहा, ‘यह वास्तव में बहुत स्पष्ट है कि उत्तर कोरिया के मिसाइल एवं परमाणु कार्यक्रम से पैदा होने वाला खतरा अब एक नए चरण में प्रवेश कर रहा है. ऐसा मेरा मानना है.’ अाबे ने कहा, ‘राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि सभी विकल्पों पर चर्चा हो रही है. वह अपने शब्दों एवं कार्यों से इस रख को दर्शा रहे हैं. हम इसका बहुत सम्मान करते हैं.’ उन्होंने कहा, ‘हम इसका बहुत सम्मान करते हैं. अत: हमें अमेरिका के साथ निकट सहयोग जारी रखना होगा. इस संबंध में रूस के साथ साथ चीन भी बहुत अहम हैं. हम प्रयास करना चाहते हैं ताकि हम किम जोंग उन शासन की नीति में पूर्ण बदलाव ला सकें.’ अाबे ने एक प्रश्न के उत्तर में कहा कि अमेरिका और उसके सहयोगी उत्तर कोरिया से इस परमाणु विकास कार्यक्रम छोड़ने की अपील कर रहे हैं. इसके लिए अंतरराष्ट्रीय समुदाय ने उत्तर कोरिया पर दबाव बढ़ाया है.

उन्होंने कहा, ‘हम इस हालात में सुधार के लिए कूटनीतिक एवं शांतिपूर्ण तरीके अपनाने की कोशिश करेंगे. मेरा मानना है कि इस मामले में अमेरिका और जापान से समान विचार हैं.'


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement