NDTV Khabar

बेटियों को स्कूल पहुंचाने के लिए रोज 12 किमी का सफर करता है यह पिता, सोशल मीडिया पर लोगों ने कहा- ''Salute है आपको''

मिया खान जो अपनी बेटियों को स्कूल ले जाने के लिए रोज 12 किलोमीटर का सफर बाइक से तय करते हैं और उसके बाद उनका स्कूल खत्म होने तक का इंतजार करते हैं ताकि वो उन्हें वापस घर ले जा सके.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
बेटियों को स्कूल पहुंचाने के लिए रोज 12 किमी का सफर करता है यह पिता, सोशल मीडिया पर लोगों ने कहा- ''Salute है आपको''

मिया खान चाहते हैं कि उनकी बेटियों को अच्छी शिक्षा मिले.

खास बातें

  1. अपनी बेटियों को पढ़ाने के लिए रोज 12 किमी. का सफर करता है यह पिता
  2. यह पिता बेटों की तरह अपनी बेटियों को भी अच्छी शिक्षा देना चाहता है
  3. इस पिता की कहानी को सोशल मीडिया पर लोग काफी पसंद कर रहे हैं
नई दिल्ली:

एक पिता की रोजाना की दिनचर्या ने सोशल मीडिया पर कई लोगों का दिल जीत लिया. दरअसल, यह कहानी अफगानिस्तान (Afghanistan) के पक्तिका प्रांत में रहने वाले मिया खान की है, जो यह सुनिश्चित करने की कोशिश में लगा हुआ है कि उसकी बेटियों को अच्छी शिक्षा मिले. अफगानिस्तान में काम कर रही एक एनजीओ स्वीडिश कमिटी ने अपने फेसबुक पेज पर मिया खान की कहानी को कुछ तस्वीरों के साथ शेयर किया है. अब, मिया खान की यह कहानी अलग अलग सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर शेयर की जा रही है और लोग इसे काफी पसंद कर रहे हैं. 

यह भी पढ़ें: इस मजदूर ने बेटी के लिए किया कुछ ऐसा कि संघर्ष की दास्तां फेसबुक पर हो गई वायरल

स्वीडिश कमिटी फॉर अफगानिस्तान (Swedish Committee for Afghanistan) ने अपनी इस पोस्ट की पहली लाइन में लिखा, ''एक पिता जो अपनी बेटियों की शिक्षा को अपनी जिम्मेदारी मानता है''. मिया खान जो अपनी बेटियों को स्कूल ले जाने के लिए रोज 12 किलोमीटर का सफर बाइक से तय करते हैं और उसके बाद उनका स्कूल खत्म होने तक का इंतजार करते हैं ताकि वो उन्हें वापस घर ले जा सके. यह अब उनकी दिनचर्या का हिस्सा बन गया है. 


इस पोस्ट के साथ एनजीओ ने एक ब्लॉग का लिंक भी शेयर किया है, जिसमें बताया गया है कि मिया खान की 3 बेटियां हैं और वह चाहता है कि तीनों को उसके बेटों की तरह अच्छी शिक्षा मिले. ब्लॉग के मुताबिक, मिया खान ने कहा, "मैं अनपढ़ हूं और मैं दिहाड़ी पर अपना वक्‍त बिता रहा हूं लेकिन मेरी बेटियों का शिक्षित होना मेरे लिए बहुत जरूरी है क्योंकि हमारे इलाके में कोई भी महिला चिकित्सक नहीं है. बेटों की तरह अपनी बेटियों को शिक्षित करना मेरा सबसे बड़ा सपना है." 

ब्लॉग में मिया खान की एक बेटी रोजी ने बताया, "मैं 6ठी कक्षा में हूं और बहुत खुश हूं क्योंकि मैं पढ़ाई कर रही हूं. मेरे पापा और भाई हमें मोटरसाइकिल पर रोज स्कूल लाते हैं और जब हमारी क्लास खत्म होती है तो हमें घर ले जाते हैं." 

टिप्पणियां

अलग-अलग सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर लोग इस पिता की प्रशंसा कर रहे हैं. किसी ने इसे हीरो बताया तो किसी ने एक प्यार करने वाला पिता बताया. एक यूजर ने फेसबुक पर लिखा, ''मैं बहुत खुश हूं एक पिता को देख कर जो अपनी जिम्मेदारियां समझता है और अपनी बेटियों के लिए शिक्षा का महत्व जानता है''. एक अन्य ने लिखा, ''एक अच्छा पिता, जो अपनी जिम्मेदारी समझता है और अपने बच्चों से प्यार करता है. इस पिता को मैं सैल्यूट करता हूं. यह खबर पढ़ कर वाकई मेरी आंखों में आंसू आ गए''. 

यहां पढ़ें ट्विटर यूजर्स का रिएक्शन



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें. World News की ज्यादा जानकारी के लिए Hindi News App डाउनलोड करें और हमें Google समाचार पर फॉलो करें


 Share
(यह भी पढ़ें)... रानू मंडल की ट्रोलिंग पर आया हिमेश रेशमिया का रिएक्शन, बोले- जहां से वह आई थीं...

Advertisement