NDTV Khabar

एच-1बी वीजा के विस्तार को और मुश्किल बनाया ट्रंप प्रशासन ने

ट्रंप प्रशासन ने एक नया दिशानिर्देश जारी करके एच-1बी और एल1 जैसे गैर-अप्रवासी वीजाओं के नवीनीकरण को और मुश्किल कर दिया है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
एच-1बी वीजा के विस्तार को और मुश्किल बनाया ट्रंप प्रशासन ने

प्रतीकात्मक चित्र

वाशिंगटन: ट्रंप प्रशासन ने एक नया दिशानिर्देश जारी करके एच-1बी और एल1 जैसे गैर-अप्रवासी वीजाओं के नवीनीकरण को और मुश्किल कर दिया है और कहा है कि वीजा अवधि बढ़ाने की मांग करते समय भी साक्ष्य दिखाने की जिम्मेदारी आवेदक की होगी. ये वीजा भारतीय आईटी पेशेवरों के बीच लोकप्रिय हैं. अपनी 13 साल से अधिक पुरानी नीति को निष्प्रभावी करते हुए अमेरिकी नागरिकता और आव्रजन सेवा (यूएससीआईएस) ने कहा कि योग्यता साबित करने के लिए साक्ष्य प्रदर्शित करने का बोझ हर समय याचिकाकर्ता पर होगा.

यह भी पढ़ें : ग्रीन कार्ड के लिए आवेदन करने वाले भारतीयों की वेटिंग लिस्ट 12 साल

यूएससीआईएस ने कहा कि 23 अप्रैल, 2004 के पिछले नियम में यह बोझ फेडरल एजेंसी पर पड़ता दिखता था. एजेंसी ने 23 अक्टूबर को जारी ज्ञापन में कहा, 'यह ज्ञापन स्पष्ट करता है कि साक्ष्य प्रदर्शित करने की जिम्मेदारी याचिकाकर्ता की है, भले ही गैर-अप्रवासी के दर्जे के विस्तार की मांग की गई हो.' पिछली नीति के तहत अगर कोई व्यक्ति शुरुआत में कामकाजी वीजा के लिए पात्र पाया जाता है तो उसके वीजा के विस्तार के लिए सामान्य तौर पर विचार किया जाएगा.

यह भी पढ़ें : अरुण जेटली ने अमेरिका के वित्त और वाणिज्य मंत्रियों के साथ एच-1बी वीजा का मुद्दा उठाया

अब नई नीति के तहत हर बार विस्तार के दौरान उन्हें संघीय अधिकारियों के सामने प्रमाणित करना होगा कि वे अब भी उस वीजा के लिए पात्र हैं, जिसके लिए उन्होंने आवेदन किया है.

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement