NDTV Khabar

ईरान कर रहा है परमाणु समझौते का उल्लंघन, डोनाल्ड ट्रंप के पास हैं सबूत : निक्की हेली

अमेरिकी कानून के तहत विदेश विभाग को हर 90 दिन में कांग्रेस को यह सूचना देनी होती है कि ईरान परमाणु समझौते का पालन कर रहा है या नहीं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
ईरान कर रहा है परमाणु समझौते का उल्लंघन, डोनाल्ड ट्रंप के पास हैं सबूत : निक्की हेली

संयुक्त राष्ट्र में अमेरिका की शीर्ष राजदूत निक्की हेली

खास बातें

  1. अमेरिका की शीर्ष राजदूत निक्की हेली ने दिया बयान.
  2. कहा कि उन्हें नहीं पता कि ट्रंप की अगले महीने क्या करने की योजना है.
  3. हेली ने कल कहा, मैं मामले को अप्रमाणिक नहीं बना रही हूं.
नई दिल्ली:

संयुक्त राष्ट्र में अमेरिका की शीर्ष राजदूत निक्की हेली ने कहा कि राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के पास इस बात की घोषणा करने के सबूत हैं कि ईरान विश्व शक्तियों के साथ 2015 में हुए परमाणु समझौते का उल्लंघन कर रहा है. ओबामा प्रशासन के दौरान अमेरिका, ईरान, चीन, रूस, फ्रांस, जर्मनी और ब्रिटेन के बीच जुलाई 2015 में हुए इस समझौते में ईरान को वैश्विक प्रतिबंधों से राहत के बदले में अपनी परमाणु गतिविधियों पर लगाम लगाना अनिवार्य है. अमेरिकी कानून के तहत विदेश विभाग को हर 90 दिन में कांग्रेस को यह सूचना देनी होती है कि ईरान परमाणु समझौते का पालन कर रहा है या नहीं. इसकी अगली समय सीमा अक्टूबर है.

पढ़ें : उत्तर कोरियाई शासक किम जोंग युद्ध के लिए बेकरार हैं : अमेरिका


टिप्पणियां

हेली ने  कहा, ‘ मैं मामले को अप्रमाणिक नहीं बना रही हूं. मैं कह रही हूं कि उन्होंने इसे खत्म करने का फैसला किया है. उनके पास अपनी बात के सबूत हैं.’ उन्होंने कहा कि उन्हें नहीं पता कि ट्रंप की अगले महीने क्या करने की योजना है जब वह कांग्रेस को इस बात की जानकारी देंगे कि क्या ईरान समझौते का पालन कर रहा है. लेकिन उन्होंने ऐसा संकेत दिया कि ट्रंप यह घोषणा कर सकते हैं कि ईरान समझौते का उल्लंघन कर रहा है.

VIDEOS : व्हाइट हाउस में प्रधानमंत्री मोदी और डोनाल्ड ट्रंप के बीच मुलाकात​
हेली ने कहा, ‘हमें परमाणु कार्यक्रम के बारे में उसके धोखा देने वाले इतिहास पर विचार करना चाहिए. हमें बैलिस्टिक मिसाइल प्रौद्योगिकी को लेकर चल रहे घटनाक्रमों पर विचार करना चाहिए.’ हेली ने चेताया कि अगर अंतरराष्ट्रीय समुदाय ईरान की गतिविधि पर ध्यान ना देना जारी रखता है और सिर्फ यह कहता है कि ‘हम बाद में निपटेंगे’ तो उन्हें अगले उत्तर कोरिया से निपटना पड़ेगा क्योंकि वे उन्हें आधुनिक तकनीक विकसित करना जारी रखने की अनुमति दे रहे हैं.
(इनपुट भाषा से)



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement