अफगानिस्तान में उपराष्ट्रपति पद के उम्मीदवार के कार्यालय पर हमला, धमाके में दो लोगों की मौत

अफगानिस्तान में उपराष्ट्रपति पद के उम्मीदवार के राजनीतिक कार्यालय को निशाना बना कर एक बड़ा विस्फोट किया गया है और उसके अंदर कई बंदूकधारी घुस गए हैं. 

अफगानिस्तान में उपराष्ट्रपति पद के उम्मीदवार के कार्यालय पर हमला, धमाके में दो लोगों की मौत

प्रतीकात्मक चित्र.

काबुल:

अफगानिस्तान में उपराष्ट्रपति पद के उम्मीदवार के राजनीतिक कार्यालय को निशाना बना कर एक बड़ा विस्फोट किया गया है और उसके अंदर कई बंदूकधारी घुस गए हैं. अफगान अधिकारियों ने रविवार को यह जानकारी दी. अधिकारियों ने बताया कि राजधानी काबुल में हुए हमले में कम से कम दो लोगों की मौत हुई है. यह हमला ऐसे दिन हुआ, जब सितंबर में होने वाले राष्ट्रपति पद के चुनावों के लिये प्रचार अभियान शुरु हुआ है. गृह मंत्रालय के प्रवक्ता नसरत रहिमी ने बताया कि उपराष्ट्रपति पद के उम्मीदवार तथा खुफिया विभाग के पूर्व प्रमुख अमरूल्लाह सालेह को इमारत से सुरक्षित निकाल कर एक महफूज़ जगह ले जाया गया है.  

अफगानिस्तान युद्ध एक हफ्ते में जीत सकता हूं, बस, एक करोड़ लोगों को मारना नहीं चाहता: डोनाल्ड ट्रंप

उन्होंने कहा कि मुठभेड़ अब भी चल रही है और इमारत की पहली तथा दूसरी मंजिल को सुरक्षा बलों ने हमलावरों के कब्जे से मुक्त करा लिया है. उन्होंने बताया कि हमलावर अब भी अंदर हैं और मुठभेड़ में एक बूंदकधारी भी मारा गया है. राष्ट्रपति अशरफ गनी ने ट्वीट कर कहा कि ‘परिसर पर किए गए हमले' में सालेह बच गए हैं और सुरक्षित हैं. यह हमला ग्रीन ट्रेंड पार्टी के मुख्यालय को निशाना बनाकर किया गया है. स्वास्थ्य मंत्रालय के प्रवक्ता वाहिदुल्लाह मयार ने बताया कि एक महिला समेत कम से कम दो लोगों की मौत हुई है. 

Newsbeep

मीटिंग के लिए इकट्ठा हुए थे आतंकी, अफगानिस्तान ने हवाई हमला कर 28 को किया ढेर

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


काबुल के पुलिस प्रमुख के प्रवक्ता फिरदौस फरामर्ज़ ने बताया कि फिदायीन कार बम के जरिए विस्फोट किया गया होगा हमले की जिम्मेदारी अभी किसी संगठन ने नहीं ली है लेकिन राजधानी में तालिबान और इस्लामिक स्टेट समूह के दहशतगर्द सक्रिय हैं. वहीं, एक अन्य घटना में पूर्वी गज़नी प्रांत में तालिबान के एक फिदायीन ने रविवार तड़के चार पुलिसकर्मियों को मार डाला. प्रांतीय पुलिस के प्रवक्ता अहमद खान सीरत के मुताबिक, यह हमला गज़नी प्रांत के एक थाने में किया गया. 



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)