उइगर मुस्लिमों को हिरासत में लेने पर चीन की सफाई, कहा - कट्टरपंथ से मुक्त करना मकसद

अफगानिस्तान और पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर की सीमा से लगे चीन के शिनजियांग प्रांत में अलगाववादी पूर्वी तुर्किस्तान इस्लामिक आंदोलन (ईटीआईएम) के हिंसक हमलों से निपटने के लिए उइगर मुस्लिमों को हिरासत शिविरों में रखा गया है.

उइगर मुस्लिमों को हिरासत में लेने पर चीन की सफाई, कहा - कट्टरपंथ से मुक्त करना मकसद

चीन ने उइगर मुस्लिमों की हिरासत पर 22 देशों के विरोध पर जताई आपत्ति

बीजिंग:

चीन में उइगर मुस्लिमों के बड़े पैमाने पर हिरासत में लिए जाने की आलोचना करते हुए 22 देशों द्वारा संयुक्त राष्ट्र को पत्र लिखे जाने का चीन ने विरोध किया है.

अफगानिस्तान और पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर की सीमा से लगे चीन के शिनजियांग प्रांत में अलगाववादी पूर्वी तुर्किस्तान इस्लामिक आंदोलन (ईटीआईएम) के हिंसक हमलों से निपटने के लिए उइगर मुस्लिमों को हिरासत शिविरों में रखा गया है.

इसको लेकर पश्चिमी देश लगातार चीन की आलोचना कर रहे हैं.

चीन 2025 तक अंतरिक्ष में सौ उपग्रह भेजने की तैयारी में

जापान और ब्रिटेन समेत 20 से ज्यादा देशों ने चीन में उइगर और अन्य अल्पसंख्यकों को हिरासत में लिए जाने की आलोचना करते हुए संयुक्त बयान जारी किया है.

जम्मू-कश्मीर पर संयुक्त राष्ट्र की रिपोर्ट को भारत ने झूठी और दुर्भावना से प्रेरित बताया

हालांकि चीन ने इन शिविरों का यह कहते हुए बचाव किया है कि यह पुनर्शिक्षित किए जाने वाले शिविर हैं जिसका मकसद उइगर मुस्लिमों के एक धड़े को कट्टरपंथ से मुक्त करना है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

VIDEO: भारत, चीन से सहमा क्यों रहता है?