रंग लाई पीएम मोदी की मुहिम, यूएन ने 21 जून को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस घोषित किया

रंग लाई पीएम मोदी की मुहिम, यूएन ने 21 जून को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस घोषित किया

पीएम नरेंद्र मोदी की फाइल तस्वीर

न्यूयॉर्क / नई दिल्ली:

योग को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अंतरराष्ट्रीय मुहिम रंग लाई है। संयुक्त राष्ट्र संघ ने अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मनाने के उनके प्रस्ताव को हरी झंडी दे दी है। अब हर साल 21 जून को विश्व अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के तौर पर मनाया जाएगा।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 21 जून को 'अंतरराष्ट्रीय योग दिवस' घोषित करने का भारत नीत प्रस्ताव संयुक्त राष्ट्र महासभा में स्वीकार होने पर प्रसन्नता जाहिर की है। साथ ही प्रधानमंत्री ने वैश्विक निकाय के सभी 177 देशों का शुक्रिया भी अदा किया।

न्यूयॉर्क में प्रस्ताव को मंजूरी मिलने के तत्काल बाद मोदी ने ट्वीट किया, बेहद रोमांचित हूं। संयुक्त राष्ट्र ने 21 जून को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस घोषित कर दिया है और मेरे पास अपनी खुशी व्यक्त करने के लिए शब्द नहीं हैं। मैं इस फैसले का स्वागत करता हूं।

उन्होंने कहा, मैं दुनिया भर के उन सभी 177 देशों को धन्यवाद देता हूं, जिन्होंने 21 जून को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस घोषित करने के लिए प्रस्ताव को सह-प्रायोजित किया। प्रधानमंत्री ने कहा कि दुनिया भर में अनगिनत लोगों ने योग को अपने जीवन का अभिन्न हिस्सा बना लिया है। उन सभी को बधाई, इससे बड़ी संख्या में लोग योग को लेकर प्रेरित होंगे।

उन्होंने कहा, योग में पूरे मानव समाज को एक साथ लाने की क्षमता है। यह ज्ञान, कर्म और भक्ति का बेहद सुंदर संगम है। मोदी ने पूर्व में दिए गए अपने भाषण का एक लिंक भी अपने ट्विटर अकाउंट पर डाला है, जिसमें उन्होंने योग और उससे होने वाले लाभ के बारे में अपने विचार रखे थे।

संयुक्त राष्ट्र में भारत के राजदूत अशोक मुखर्जी ने 'अंतरराष्ट्रीय योग दिवस' संबंधी प्रस्ताव पेश किया और 177 देश इसके सह-प्रायोजक बने। यह संयुक्त राष्ट्र महासभा के किसी प्रस्ताव के लिए सबसे बड़ी सह-प्रायोजक संख्या है। प्रस्ताव में कहा गया है कि योग स्वास्थ्य के लिए समग्र पहल प्रदान करता है एवं योग के फायदे की जानकारियां फैलाना दुनियाभर में लोगों के स्वास्थ्य के हित में होगा। यह प्रस्ताव पेश करते हुए मुखर्जी ने संयुक्त राष्ट्र महासभा में मोदी के दिए भाषण को उद्धृत किया।

भाषण में मोदी ने विश्व नेताओं से एक अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के लिए मंजूरी देने का आह्वान करते हुए कहा था कि जीवन शैली में बदलाव और चेतना जाग्रत करने पर जलवायु परिवर्तन का सामना करने में मदद मिल सकती है। मोदी ने कहा था, योग मस्तिष्क और शरीर, विचारों और क्रिया, संयम तथा पूर्णता, मानव एवं प्रकृति के बीच सद्भाव का समागम है, यह स्वास्थ्य और कल्याण के लिए समग्र पहल प्रदान करता है।

21 जून को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मनाने के सुझाव में मोदी ने कहा था कि यह वह तारीख है, जब उत्तरी ध्रुव में दिन की अवधि सबसे लंबी होती है और दुनिया के कई हिस्सों में यह दिन महत्वपूर्ण माना जाता है। मुखर्जी ने कहा कि प्रधानमंत्री ने जो विचार पेश किया था, उसका शुरू में कुछ ही देशों ने समर्थन किया।

उन्होंने कहा, लेकिन आज संयुक्त राष्ट्र महासभा में इस प्रस्ताव ने रिकॉर्ड संख्या में सह-प्रायोजक हासिल कर लिए, जिनमें बड़ी संख्या महासभा के सभी क्षेत्रीय और उप क्षेत्रीय समूहों के सदस्य देशों की है, सुरक्षा परिषद के पांच स्थायी सदस्य भी शामिल हैं और यह उस सार्वभौमिक अपील की परिचायक है कि संयुक्त राष्ट्र के सदस्य देशों में योग महत्व रखता है।

प्रस्ताव में सभी सदस्य देशों, पर्यवेक्षक देशों, संरा से जुड़े संगठनों, अन्य अंतरराष्ट्रीय एवं क्षेत्रीय निकायों से योग के फायदे के बारे में जागरूकता फैलाने के लिए यह दिवस मनाने की अपील की गई थी। भारत ने यह प्रस्ताव तैयार किया था। इस विषय पर भारतीय मिशन ने अक्टूबर में संयुक्त राष्ट्र महासभा में एक अनौपचारिक परिचर्चा आयोजित की थी, जिसमें अन्य प्रतिनिधियों ने इस विषय पर अपनी राय रखी थी।

(इनपुट भाषा से भी)

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com