NDTV Khabar

जम्मू कश्मीर मसले पर 'बंद कमरे' में होगी संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की बैठक: रिपोर्ट

कश्मीर के हालिया घटनाक्रम को लेकर चीन के आग्रह पर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (UNSC) की शुक्रवार को एक बैठक होगी, जिसमें इस मसले पर परिषद के सदस्यों के बीच (क्लोज्ड डोर) में मंत्रणा करेगी.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
जम्मू कश्मीर मसले पर 'बंद कमरे' में होगी संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की बैठक: रिपोर्ट

प्रतीकात्मक फोटो.

संयुक्त राष्ट्र:

कश्मीर के हालिया घटनाक्रम को लेकर चीन के आग्रह पर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (UNSC) की शुक्रवार को एक बैठक होगी, जिसमें इस मसले पर परिषद के सदस्यों के बीच (क्लोज्ड डोर) में मंत्रणा करेगी. न्यूयार्क के स्थानीय समय के हिसाब से सुबह 10 बजे बैठक होगी. जबकि भारतीय समयानुसार बैठक का समय शाम साढ़े सात बजे है. यह जानकारी गुरुवार को सुरक्षा परिषद के एक राजनयिक ने दी. राजनयिक ने कहा कि चीन ने एक पत्र में बैठक बुलाने का आग्रह किया. चीन ने बुधवार को परिषद की अनौपचारिक परामर्श के दौरान इस संबंध में आग्रह किया. राजनयिक ने बताया कि बैठक का प्रारूप क्लोज्ड-डोर कंसल्टेशन (समूह के सदस्यों के बीच मंत्रणा) होगा जिसमें, पाकिस्तान का शामिल होना नामुमकिन है.

जम्मू-कश्मीर पर बड़े फैसले के बीच विदेश मंत्री ने कहा, भारत और चीन को मतभेदों के चलते संबंध नहीं बिगाड़ना चाहिए


बंद कमरे की बैठक में गुप्त मंत्रणा की जाएगी, जिसका प्रसारण नहीं किया जाएगा. मतलब, संवाददाताओं की उसमें पहुंच नहीं होगी. राजनयिक ने बताया कि चीन चाहता था कि गुरुवार को ही इस मसले पर विचार-विमर्श हो, लेकिन पहले से तय कार्यक्रम के अनुसार, इस दिन कोई बैठक नहीं होने वाली थी इसलिए बैठक शुक्रवार को होगी. राजनयिक ने कहा कि सुरक्षा परिषद के अध्यक्ष जोआना रोनेका का कार्यालय बैठक को लेकर काम कर रहा था कि कब बैठक का आयोजन किया जाए. दरअसल, पाकिस्तान ने UNSC प्रेसीडेंट को 13 अगस्त को एक चिट्ठी लिखी थी. इसमें तनाव बढ़ने से रोकने के लिए अर्जेंट बैठक की मांग की थी. चीन ने पाकिस्तान का साथ देते हुए अनौपचारिक बैठक की मांग की. आपसी सलाह के लिए बुलाई गई इस अनौपचारिक बैठक में UNSC के सभी स्थायी (5) और अस्थायी (10) सदस्य हिस्सा लेंगे.

चीन ने कश्मीर मुद्दे पर चर्चा के लिए संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की बैठक बुलाने की मांग की

टिप्पणियां

भारत द्वारा संविधान के अनुच्छेद 370 और 35ए को निरस्त किए जाने के बाद पाकिस्तान ने यूएनएससी से कश्मीर मसले पर बैठक बुलाने की मांग की थी. दरअसल, अनुच्छेद 370 और 35ए के प्रावधानों के तहत ही जम्मू-कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा प्राप्त था. सुरक्षा परिषद में शामिल चीन को छोड़कर बाकी सभी चारों स्थायी सदस्यों ने प्रत्यक्ष तौर पर नई दिल्ली के इस रुख का समर्थन किया है कि यह विवाद भारत और पाकिस्तान के बीच द्विपक्षीय मसला है. अमेरिका ने भी कहा है कि कश्मीर के संबंध में हालिया घटनाक्रम भारत का आंतरिक मसला है. बुधवार को सीरिया और मध्य अफ्रीका के संबंध में विचार-विमर्श था, लेकिन चीन ने परिषद को पत्र लिखकर पाकिस्तान का मसला लाने का आग्रह किया.

VIDEO: भारत के अंदरूनी मामलों में दखल कितना उचित?



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement