अमेरिका ने पाकिस्तान से आतंकी संगठनों की फंडिंग रोकने को कहा, जैश के खिलाफ कार्रवाई का समर्थन किया

जम्मू एवं कश्मीर के पुलवामा में हुए आतंकवादी हमले के बाद अमेरिका ने पाकिस्तान से कहा है कि संयुक्त राष्ट्र द्वारा घोषित आतंकवादी संगठनों और उनके आकाओं के वित्त पोषण स्रोतों पर बिना देरी रोक लगाए.

अमेरिका ने पाकिस्तान से आतंकी संगठनों की फंडिंग रोकने को कहा, जैश के खिलाफ कार्रवाई का समर्थन किया

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की फाइल फोटो.

वाशिंगटन:

जम्मू एवं कश्मीर के पुलवामा में हुए आतंकवादी हमले के बाद अमेरिका ने पाकिस्तान से कहा है कि संयुक्त राष्ट्र द्वारा घोषित आतंकवादी संगठनों और उनके आकाओं के वित्त पोषण स्रोतों पर बिना देरी रोक लगाए. पुलवामा हमले की ज़िम्मेदारी आतंकवादी गुट जैश-ए-मोहम्मद (JeM) ने ली है, जिसका सरगना मसूद अज़हर भारत में कई बड़े आतंकवादी हमलों का मास्टरमाइंड है.अमेरिका ने यह भी कहा है कि वह भविष्य में आतंकवादी गुट जैश-ए-मोहम्मद द्वारा किए जाने वाले किसी भी संभावित हमले को रोकने की कार्रवाई का पूरा समर्थन करेगा. जैश-ए-मोहम्मद ने जम्मू-कश्मीर के पुलवामा जिले में गुरुवार को हुए आतंकवादी हमले की ज़िम्मदारी ली है. हमले में CRPF के कम से कम 40 जवान शहीद हुए और पांच अन्य गंभीर रूप से घायल हैं.

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा, "पाकिस्तान ने जैश-ए-मोहम्मद को 2002 में गैरकानूनी घोषित किया था... हालांकि वह संगठन अब भी पाकिस्तान में सक्रिय है... अमेरिका ने दिसंबर, 2001 में जैश को विदेशी आतंकवादी संगठन घोषित किया था और हम भविष्य में उसके द्वारा किए जाने वाले किसी भी हमले को रोकने की कार्रवाई का पूरा समर्थन करेंगे..."

अधिकारी ने कहा कि इसके अलावा संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने वर्ष 2001 में जैश को अपनी 1267 ISIN (दायेश) और अलकायदा प्रतिबंधित सूची में डाला था. प्रवक्ता ने एक सवाल के जवाब में कहा कि हम पाकिस्तान से उम्मीद करते हैं कि वह संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रस्तावों के तहत आतंकवादियों को पनाह और समर्थन नहीं देने की अपनी ज़िम्मेदारियां निभाए और UNSC की 1267 प्रतिबंध सूची में शामिल लोगों और संगठनों के वित्त पोषण स्रोतों, अन्य वित्तीय संपत्तियों और आर्थिक संसाधनों को तुरंत ज़ब्त करे.

अधिकारी ने पुलवामा आतंकवादी हमले के बाद अमेरिका के इस मामले को पाकिस्तानी नेतृत्व के समक्ष उठाने के संबंध में कोई जानकारी नहीं दी. बहरहाल, सोशल मीडिया पर विभिन्न बयानों में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप प्रशासन ने पाकिस्तान से आतंकवादी संगठनों को सुरक्षित पनाह और समर्थन न देने की अपील की है.

प्रवक्ता ने पुलवामा हमले के बाद संयुक्त राष्ट्र द्वारा जैश-ए-मोहम्मद प्रमुख मसूद अज़हर को वैश्विक आतंकवादियों की सूची में डालने की भारत की अपील का समर्थन करने से चीन के फिर इंकार करने के कदम पर कोई टिप्पणी नहीं की. प्रवक्ता ने कहा, "मसूद अज़हर और जैश-ए-मोहम्मद पर हमारी राय सबको पता है... जैश कई आतंकवादी हमलों के लिए ज़िम्मेदार है और साथ ही क्षेत्रीय स्थिरता के लिए खतरा भी है..." अधिकारी ने कहा, "संयुक्त राष्ट्र प्रतिबंध समिति विचार-विमर्श गोपनीय है, इसलिए हम विशेष मुद्दे पर कोई टिप्पणी नहीं कर सकते..."

वीडियो- पुलवामा हमलाः सर्वदलीय बैठक में गृहमंत्री बोले- सुरक्षा बलों को मिली पूरी छूट



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)
 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com